58189 ग्राम पंचायतों में नवनिर्वाचित प्रधानों के प्रशिक्षण होगा मंडल स्तर पर

पंचायती राज विभाग, उ0प्र0 द्वारा ग्राम प्रधानों के उन्मुखीकरण कार्यक्रम की नींव रखते हुए ‘प्रशिक्षकों के प्रशिक्षण’ कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

लखनऊः पंचायतीराज निदेशालय में पंचायती राज प्रशिक्षण संस्थान (प्रिट), लोहिया भवन, अलीगंज लखनऊ, में पंचायती राज विभाग, उ0प्र0 द्वारा ग्राम प्रधानों के उन्मुखीकरण कार्यक्रम की नींव रखते हुए ‘प्रशिक्षकों के प्रशिक्षण’ कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
प्रशिक्षण के आज के सत्र में ‘पंचायती राज व्यवस्था एवं विभागीय योजनाओं’ से सम्बन्धित विषय के 40 प्रशिक्षकों द्वारा प्रतिभाग किया गया। इस अवसर पर श्रीमती किंजल सिंह, निदेशक, पंचायती राज विभाग, उ0प्र0 द्वारा प्रशिक्षकों के प्रशिक्षण कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि ‘‘जन-सहभागिता के साथ ग्राम पंचायतों के सर्वांगीण विकास में ग्राम प्रधान की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण है।

प्रदेश की 58189 ग्राम पंचायतों में नवनिर्वाचित ग्राम प्रधान अपने कार्य एवं दायित्वों की नियामक जानकारी, वित्त प्रबंधन, विभागीय महत्वपूर्ण योजनाओं आदि की जानकारी प्रदान करने से निश्चित रूप से उनकी कार्यकुशलता एवं क्षमता में वृृद्धि होगी। कोरोना संक्रमण काल में पंचायतों की भूमिका और भी महत्वपूर्ण है एवं नव निर्वाचित प्रतिनिधियों इन चुनौतियों से कुशलतापूर्वक लड़े एवं कार्य क्षेत्र में पूरी तैयारी से उतरे, यह अति आवयश्यक है। आपके माध्यम से न सिर्फ पंचायती राज व्यवस्था की सबसे छोटी इकाई प्रशिक्षित होगी बल्कि प्रशिक्षण एवं क्षमता संवर्द्धन का आधार भी और मजबूत होगा। आप प्रशिक्षक है, आपका काम जो न रूचि ले, उसको भी पढ़ाकर आयें। आप द्वारा प्रशिक्षण प्राप्त कर पंचायत प्रतिनिधि स्वयं को और भी अधिक सशक्त महसूस करेंगे ऐसा मेरा विश्वास है।’’

विभिन्न जनपदों से आए रिसोर्स पर्सन एवं एन.आई.आर.डी. के सत्यापित

प्रशिक्षण कार्यक्रम अवसर पर विभिन्न जनपदों से आए रिसोर्स पर्सन एवं एन.आई.आर.डी. के सत्यापित मास्टर टेनरों को राज कुमार, अपर निदेशक(प्रशा0), पं0राज0वि0 द्वारा बताया गया कि ‘‘प्रशिक्षकों का प्रशिक्षण कार्यक्रम एक दिवसीय है, यह प्रशिक्षण कार्यक्रम आज से 29 जून की अवधि में 6 बैचों में आयोजित किया जाना है। प्रत्येक दिवस में प्रधानों को उनकी भूमिका एवं उत्तरदायित्व तथा विभागीय योजनाओ, ग्राम पंचायत विकास योजना, एस.डी.जी. ई-गवर्नेंस, स्वच्छ भारत मिशन(ग्रा0)/ठोस एवं तरल अपशिष्ट पदार्थ प्रबंधन जैसे विषयों पर प्रशिक्षित किया जाएगा, जिससे कि विषय-विशेषज्ञ प्रशिक्षकों द्वारा प्रधानों को विषयवार प्रशिक्षित किया जा सके।’’

उन्होंने बताया कि प्रधानों के प्रशिक्षण का कार्य जुलाई माह के द्वितीय सप्ताह में इन्हीं प्रशिक्षकों द्वारा विषयों पर तैयार विडियों, आडियों एवं संदर्भ साहित्य की सहायता से मंडल स्तर पर किया जाएगा। प्रधानों का प्रशिक्षण, मंडलीय उपनिदेशक(पं.) के नेतृत्व अपने-अपने मंडल में आॅनलाइन किया जाएगा’’, यह जानकारी श्रीमती प्रवीणा चैधरी, उपनिदेशक(पं0) एवं नोडल अधिकारी, राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान(आर.जी.एस.ए.) द्वारा देते हुए बताया गया कि प्रधानों का प्रशिक्षण आर.जी.एस.ए. योजना से ही किया जा रहा है जोकि पंचायतों के प्रशिक्षण एवं क्षमता संवर्द्धन हेतु समर्पित योजना है।

कार्यक्रम में निदेशक एवं अपर निदेशक पं0राज0वि0 के साथ श्री ए.के सिंह, संयुक्त निदेशक, प्रिट एवं मंडलीय उपनिदेशक(पं0) एवं मास्टर टेªनर श्री महेन्द्र सिंह एवं श्रीमती सुनीता सिंह एवं डा. प्रीति सिंह, राज्य सलाहकार द्वारा प्रतिभागियों का आज के विषय पर ज्ञानवर्द्धन करते हुए प्रशिक्षण प्रदान किया गया।

यह भी पढ़ें: ONGC में इन पदों पर निकली बंपर वैकेंसी, बिना एग्जाम होगा सेलेक्शन, करें आवेदन

Related Articles