लोकसभा चुनाव 2019: ‘साइबर युद्ध’ के लिए तृणमूल कांग्रेस ने कसी कमर

0

नई दिल्लीः आगमी चुनावों को देखते हुए पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस ने ‘साइबर युद्ध’ के लिए कमर कस ली है। बीजेपी और टीएमसी दोनों ही पार्टियों ने अपने-अपने आईटी सेल को मजबूत करने का काम शुरू कर दिया है।

तृणमूल कांग्रेस ने आईटी सेल की जिम्मेदारी ममता बनर्जी के भतीजे और सांसद अभिषेक बनर्जी को दी है। पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता डेरेक ओ ब्रायन एवं अभिषेक सोशल नेटवर्किंग साइटों पर बहुत ज्यादा सक्रिय हैं।

तृणमूल ने 10 सितंबर को यहां एक डिजिटल कॉन्क्लेव आयोजित किया गया जिसमें फोन पर बात करते हुए सीएम ममता बनर्जी ने इसकी जानकारी दी । उन्होंने कहा है कि जो बीजेपी को लगातार काउंटर करता रहेगा उसे इनाम भी दिया जायेगा।

यही नहीं पार्टी सांसदों, विधायकों एवं मंत्रियों को भी सोशल मीडिया पर सक्रिय होने का निर्देश दे रही है। तृणमूल कांग्रेस सोशल मीडिया के माध्यम से सरकार के कामकाज और जनता के सामने लाने की योजना बना रही है। साथ ही 40 हजार युवाओं को इस क्षेत्र में प्रशिक्षण दिया जाएगा।

बनर्जी ने कहा, “हर जिले में इन युवाओं में प्रतिस्पर्धा होगी जो हमारी उपलब्धियों को उजागर करने और तथ्यों और आंकड़ों के साथ बीजेपी का मुकाबला करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। न केवल बांग्ला, आपको व्यापक पहुंच के लिए हिंदी में भी (बीजेपी) का जवाब देना चाहिए। ”

विश्व हिंदू कांग्रेस में आरएसएस और मोहन भागवत के भाषण का जिक्र करते हुए, उन्होंने कहा, “वे अब ‘आयातित आरएसएस’ हैं। वे धर्म के नाम पर देश को विभाजित कर रहे हैं। मैं आप सभी को ऐसे खतरनाक रुझानों का सामना करने के लिए आग्रह करना चाहता हूं। मैं चाहता हूं कि मेरी डिजिटल टीम दुनिया में सर्वश्रेष्ठ हो।

दूसरी ओर, अमित शाह ने भी पार्टी युवा कार्यकर्ताओं से सोशल मीडिया पर मौजूदगी बढ़ाने को कहा है। उन्होंने सोशल मीडिया को ममता बनर्जी सरकार और तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ प्रमुख हथियार बनाने के लिए कहा है।

ये भी पढ़ें……इस समस्या को दूर करने के लिए 1.5 लाख नौकरियां खत्म कर सकती है आर्मी

सूत्रों ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह समेत पार्टी के तमाम बड़े नेताओं के भाषण एवं केंद्र सरकार की नीतियों का बांग्ला में अनुवाद कर सबको सोशल मीडिया के जरिए बंगाल में घर-घर पहुंचाने की योजना है।

loading...
शेयर करें