जब तीन तलाक देकर पति ने घर से निकाला, तब ससुर बोला-अब मेरी बन जाओ

लखनऊ। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी तीन तलाक के नाम पर महिलाओं के साथ अत्याचार थमने का नाम नहीं ले रहा है। ताजा मामला नेहद शर्मसार करने वाला है। सीबीगंज थाना क्षेत्र के कांशीराम कॉलोनी में रहने वाली महिला से एक शख्स ने अपनी पहली शादी की बात छिपाकर उससे निकाह कर लिया जब वो गर्भवती हो गई तो उसे मारपीट कर घर से निकाल दिया। 6 महीने बाद फोन पर तीन तलाक कह कर उससे छुटकारा पाने की कोशिश की।

 तलाक

पीडिता ने अपने पति से मिन्नतें की कि वो उसके साथ ऐसा न करे जब वहां सुनवाई नहीं हुई तो उसने अपने ससुर से इंसाफ की गुहार लगाई। पीड़िता की गुहार पर उसके सौर ने जो कहा उसे सुनकर इंसानियत शर्मसार हो जाए। ससुर का कहना था कि अगर वो तुझे नहीं रखता तो तू मेरे साथ रह जा। उसने कहा कि मैं जिंदगी भर रखने को तैयार हूं। इसके बाद पीड़िता ने एसएसपी ऑफिस में न्याय की गुहार लगाई है।

पीड़िता का नाम शादना बी है। 2013 में शादना बी शादी मीरगंज के मोहम्मद आरिफ से हुई थी। आरोप है कि निकाह के वक़्त के मोहम्मद आरिफ ने अपने शादी शुदा होने की बात छिपाई थी। इसके बाद जब शादना चार महीने की गर्भवती हुई तो उसे मारपीट कर घर से निकाल दिया गया। छह महीने पहले आरिफ ने उसे फोन पर तीन बार तलाक बोल दिया। बेटी के जन्म के बाद जब शादना बी ससुराल पहुंची तो पति ने उसे साथ रखने से इनकार कर दिया।

शादना ने बच्ची का वास्ता भी दिया लेकिन आरिफ नहीं पिघला और बोला ‘मैंने तुझे तलाक दे दिया है। अब सात शादियां करूंगा।’ तब शादना अपने ससुर के पास अपनी फरियाद लेकर पहुंची लेकिन वहां उसने कहा कि वह तो रखेगा नहीं, मेरे साथ रह ले।

अपने आपको जलील होता देख शादना बी ने ‘आम आवाज’ संगठन  से समपर्क किया और उनसे गुहार लगाई। इसके बाद शादना बी ने ‘आम आवाज’ संगठन की संस्थापक से मिलकर न्याय की गुहार लगाई। ‘आम आवाज’ संगठन की संस्थापक फहीम यास्मीन और अध्यक्ष सैयद शारिक अली पीड़िता को लेकर एसएसपी ऑफिस पहुंचे। पुलिस ने जल्द ही कार्रवाई का आश्वासन दिया।

 

Related Articles