त्रिपुरा सरकार ने शुरू की ‘मोबाइल पुलिसिंग’ सेवा, महिलाओं पर होने वाले अपराध पर लगेगा लगाम

0

अगरतला। त्रिपुरा सरकार ने शनिवार को अपराध पर लगाम लगाने के लिए जीपीएस (ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम) और वायरलेस आधारित 24 दिन सात घंटे वाली ‘मोबाइल पुलिसिंग’ सेवा शुरू की है। इसमें विशेषरूप से महिलाओं के खिलाफ अपराधों पर लगाम लगाने पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। ‘मोबाइल पुलिसिंग’ सेवा की शुरुआत करते हुए मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार का मुख्य लक्ष्य त्रिपुरा को अपराध और नशा मुक्त राज्य बनाना है।

गृह मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार संभाल रहे देब ने कहा, “हम महिलाओं को सशक्त बनाना चाहते हैं। मेरी सरकार का संकल्प विशेषकर महिलाओं समेत सभी तरह के अपराधों के खिलाफ शून्य सहिष्णुता का है। हम भू माफियाओं की गतिविधियों को जड़ से उखाड़ फेंकना चाहते हैं।”

उन्होंने ‘मोबाइल पुलिसिंग’ सेवा को शुरू करते हुए कहा, “लोगों को पुलिस के पास जाने की जरूरत नहीं होगी और स्थिति से निपटने के लिए पुलिस कुछ ही मिनटों के भीतर घटना स्थल पर पहुंचेगी।” उन्होंने कहा, “सूचना प्रौद्योगिकी की मदद से लोग इलेक्ट्रॉनिक प्रौद्योगिकी या प्रणाली का उपयोग कर पुलिस को सूचित कर सकते हैं और पुलिस भी सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग कर स्थिति से निपट सकती है। यह समय और शारीरिक भागीदारी को बचाएगी।”

भाजपा की अगुवाई वाली गठबंधन सरकार ने शनिवार को कार्यकाल के 100 दिन पूरे किए हैं।देब ने कहा, “100 दिनों में मेरी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि प्रशासन में पारदर्शिता लाना है। देब ने पुलिस और अन्य सरकारी अधिकारियों व कर्मचारियों से समय पर अपने कार्यों को पूरा करने को कहा।” पुलिस महानिदेशक ने इस मौके पर कहा, “मोबाइल पुलिसिंग सेवा को संचालित करने के लिए एक पुलिस वैन या एक छोटे वाहन में पुलिसकर्मी अपने नियत क्षेत्र में गश्त करेंगे। मोबाइल गश्ती टीम निकटतम पुलिस थाने या चौकी के साथ लगातार संपर्क में रहेगी।”

loading...
शेयर करें