ग्रामीण बैंकों की सूची में त्रिपुरा ग्रामीण बैंक ने प्राप्त किया पांचवा स्थान

अगरतला: त्रिपुरा ग्रामीण बैंक(टीजीबी) ने अपने कारोबार और वृद्धि की वजह से देश के 56 स्थानीय ग्रामीण बैंकों में पांचवा स्थान प्राप्त किया है। एक अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी। 42 वर्ष पुराने टीजीबी ने वित्त वर्ष 2017-18 में कुल 44.14 करोड़ रुपये का मुनाफा दर्ज किया।

त्रिपुरा ग्रामीण बैंकबैंक के चेयरमैन मोहन गोस्वामी ने मीडिया से कहा, “इस बैंक में 50 प्रतिशत केंद्र सरकार की, 35 प्रतिशत यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया(यूबीआई) की और 15 प्रतिशत त्रिपुरा सरकार की हिस्सेदारी है। बैंक पिछले 17 वर्षो से लाभ में है।”

उन्होंने कहा, “पूर्वोत्तर क्षेत्र(सिक्किम को छोड़कर) में टीजीबी उन आठ आरआरबी में शामिल है, जिसने सफलतापूर्वक लाभ अर्जित किया है।” गोस्वामी ने कहा कि अन्य राष्ट्रीकृत बैंकों की तरह टीजीबी भी अपने ग्राहकों को सभी आधुनिक सुविधाएं जैसे कंप्यूटर सेवा, ऑनलाइन वित्तीय लेन-देन और मोबाइल बैंकिंग मुहैया कराता है।

उन्होंने कहा कि बैंक ने बीते वित्त वर्ष में कारोबार का दायरा 8,332.11 करोड़ रुपये तक बढ़ाया, जोकि पिछले वर्ष इसी समय किए गए कारोबार से 13.06 प्रतिशत ज्यादा है। गोस्वामी ने कहा, “त्रिपुरा में फिलहाल बैंक की कुल 159 शाखाएं हैं, जिसमें 15 अत्यंत छोटी शाखाएं (यूएसबी) हैं। इस ग्रामीण बैंक का जमा 10.46 प्रतिशत बढ़ा है और यह 31 मार्च, 2017 के 5381.74 करोड़ रुपये से बढ़कर 31 मार्च, 2018 को 5944.54 करोड़ रुपये हो गया।”

उन्होंने कहा, “जब अधिकतर राष्ट्रीयकृत बैंकों को बीते वित्त वर्ष में अत्यधिक घाटा हुआ है, टीजीबी ने 2017-18 में 44.14 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ और 178.65 करोड़ रुपये का कारोबारी लाभ कमाया है।”

Related Articles