ट्रंप तकनीकी क्षेत्र में चीनी निवेश पर करेंगे कार्रवाई, व्यापार जंग में तनाव बढ़ने की संभावना

वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का प्रशासन इस सप्ताह अमेरिका की मुख्य प्रौद्योगिकी में चीन के निवेश पर कार्रवाई के लिए कदम उठाने की घोषणा के लिए तैयार है। सीएनएन की खबर के मुताबिक, इस कदम से वाशिंगटन और बीजिंग के बीच चल रही व्यापार जंग में तनाव बढ़ने की संभावना है।

‘औद्योगिक रूप से महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकी’ में चीनी निवेश पर योजनाबद्ध अमेरिकी प्रतिबंध ‘मेड इन चाइना 2025’ को लेकर अमेरिकी चिंताओं से प्रेरित है। बीजिंग के रोबोटिक्स, इलेक्ट्रिक कार और एयरोस्पेस जैसे उद्योगों को बढ़ाने की योजना है, ताकि वह इन क्षेत्रों में वैश्विक दिग्गज बन सके।

द वॉल स्ट्रीट जर्नल की पिछले रविवार की खबर के मुताबिक, कुछ नियमों में सख्ती की गई है, जिसके तहत व्हाइट हाउस द्वारा महत्वपूर्ण समझी जाने वाली प्रौद्योगिकी में शामिल कंपनियों को खरीदने से कम से कम 25 प्रतिशत चीनी स्वामित्व वाले फर्मों पर रोक लग जाएगी।

रिपोर्ट में कहा गया, “चीनी स्वामित्व पर सीमा को सबसे कम स्तर पर समाप्त किया जा सकता है।”अभी साफ तौर पर यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि ट्रंप प्रशासन कैसे परिभाषित करेगा कि कौन सी तकनीक औद्योगिक रूप से महत्वपूर्ण है। सीएनएन की खबर के मुताबिक, न तो नियम बनाने वाले ट्रेजरी विभाग और न ही व्हाइट हाउस ने इस पर किसी प्रकार की टिप्पणी की है।

Related Articles