ट्यूशन पढ़ाकर कमाते हैं 100 करोड़ मंथली, ऐसे की थी शुरूआत

0

नई दिल्ली: आपने ये तो सुना ही होगा कि कड़ी मेहनत और लगन से किसी भी लक्ष्य को पाया जाता है, फिर चाहे वो कितना ही बड़ा हो. ऐसी ही एक खबर आज हम आपके सामने ला रहे हैं, जिसे पढ़कर आप भी कहेंगे की जीरो से हीरो कोई भी बन सकता है. दरअसल, केरल के एक छोटे से गांव से पढ़ाई करने वाले बायजू रविंद्रन ने कोचिंग क्लास से शुरू कर आज ऐसा मुकाम हासिल किया है, जिसके बारे में शायद उन्होंने खुद भी नहीं सोचा होगा.

रविंद्रन ने सिर्फ 2 लाख रुपए खर्च कर अपनी कोचिंग क्लास शुरू की थी. कोचिंग पढ़ाने के दौरान ही उनके दिमाग में एक बड़ा ही शानदार आइडिया आया. जिसने उनकी कोचिंग का तरीका बदला और साथ ही उनकी किस्मत भी. आज कोचिंग क्लास से शुरू हो Byju’s इंडिया की सबसे बड़ी एडटेक कंपनी बन गई है, जिसके फाउंडर बायजू रविंद्रन हैं. Byju’s की हर महीने की इनकम 100 करोड़ पार कर गई है. जिसे और बढ़ाने के लिए उन्होंने हर साल 1400 करोड़ रेवेन्यू का लक्ष्‍य रखा है. इस कोचिंग कि सफलता का अंदाजा आप सिर्फ इस बात से ही लगा सकते हैं कि इसका विज्ञापन खुद फिल्म अभिनेता शाहरुख खान करते हैं.

ऐसे शुरू हुआ जीरो से हीरो का सफर

बायजू रविंद्रन की शुरुआती शिक्षा उनके गांव अझीकोड से शुरू हुई जो केरल के कन्नूर जिले में स्थित है. उन्होंने स्कूल के बाद कालीकल यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग पूरी कर शिपिंग कंपनी में नौकरी की. उसी दौरान अपने कुछ दोस्तों को एमबीए के एग्जाम की तैयारी में मदद करने की सोची और उनके लिए टीचिंग शुरू की. बेहतर रिजल्ट दिखा तो दोस्तों ने कोचिंग क्लास शुरू करने की सलाह दी. यहीं से बायजू के एक सफल बिजनेसमैन बनने का सफर शुरू हुआ.

कम रकम से शुरू की कोचिंग

बायजू ने महज 2 लाख रुपए से अपनी कोचिंग क्लास शुरू की थी. बाद में उन्हें ज्यादा लोगों को एजुकेशन प्रोवाइड करने के लिए एक खास आइडिया सूझा और उन्होंने 2011 में बायजू नाम से अपना स्टार्टअप तैयार कर लिया है. आज एजुकेशन प्रोवाइड कराने वाली इस कंपनी की सालाना कमाई 260 करोड़ रुपए तक पहुंच गई है. जिसे और बढ़ाने के लिए बायजू ने 1400 करोड़ का रेवेन्यू का लक्ष्य रखा है.

ऑनलाइन टीचिंग देते हैं बायजू

रविंद्रन फुल टाइम कोचिंग क्लास चलाने लगे. वे कई और शहरों में जाकर भी कोचिंग क्लास लेते थे. बाद में उन्होंने सोचा कि क्यों न एक ही जगह रहकर अपने सभी छात्रों तक पहुंचा जा सके. यहीं उन्होंने पहली बार 2009 में CAT के लिए ऑनलाइन वीडियो बेस्ड लर्निंग प्रोग्राम शुरू किया. यह ऐसा आइडिया था, जिसके बाद से उनका एक नया सफर हुआ. जिसने पूरे देश में चर्चित करा और बुलंदियों के नये सफर तक पहुंचा दिया.

2011 में खुद की कंपनी बनाई

रविंद्रन ने बायजू नाम से 2011 में अपनी कंपनी शुरू की. जिसका फोकस CAT के अलावा चौथी से 12वीं क्लास के छात्रों को ऑनलाइन कोचिंग प्रोवाइड करने पर था. उनकी कोचिंग में छात्रों की संख्‍या बढ़ने लगी.

2015 में Byju’s नाम का ऐप लॉन्च किया

2015 में रविंद्रन की कंपनी ने अपना फ्लैगशिप प्रोडक्ट Byju’s – द लर्निंग एप लॉन्च किया. यह उनके लिए गेमचेंजर साबित हुआ. स्मार्टफोन की बढ़ती लोकप्रियता के बीच उनका यह एप भी पॉपुलर होता गया.

2 करोड़ से अधिक छात्र बायजू से जुड़े

बायजू कंपनी छात्रों को ऑनलाइन कोर्स कंटेट उप्लब्ध कराती है. कुछ कंटेंट तो फ्री हैं, लेकिन एडवांस लेवल के लिए फीस देनी होती है. मौजूदा समय में Byju’s के साथ करीब 2 करोड़ छात्र रजिस्टर्ड हैं. इसमें से करीब 13 लाख पेड सब्सक्राइबर्स हैं. मौजूदा समय में बायजू के साथ 1000 से ज्यादा कर्मचारी जुड़े हुए हैं. जो धीरे-धीर बढ़ रहे हैं.

loading...
शेयर करें