तुलसीदास जयंती: करें रामचरितमानस का पाठ, पूरी होगी हर मनोकामना

0

नई दिल्ली। तुलसीदास जयंती श्रावण मास की शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को मनायी जाती है। इस बार तुलसीदास जयंती 17 अगस्त यानि की आज मनायी जा रही है। कहा जाता है तुलसीदास जी राम भगवान के बहुत बड़े भक्त थे और इन्हें राम की भक्ति अपनी पत्नी रत्नावती से प्राप्त हुई थी। इनके बारे में मान्यता है कि कलयुग में इन्हें भगवान राम और लक्ष्मण के दर्शन प्राप्त हुए थे, इन्होंनें श्री राम की कथा रामचरितमानस के रूप में लिखी थी। रामचरितमानस को हिंदू धर्म में अत्यंत पूज्य माना जाता है।

क्या है रामचरितमानस और इसकी मान्यता
रामचरितमानस अवधि भाषा में गोस्वामी तुलसीदीस द्वारा लिखी गई रामायण है। रामचरितमानस भारतीय संस्कृति में एक विशेष स्थान रखता है। उत्तर भारत में रामायण क् रूप में बहुत से लोगों द्वारा रोजाना पढ़ा जाता है। इसकी एक एक पंक्तियां भी मंत्र के समान प्रभावशाली है। कहा जाता है सच्चे दिल से इसका पाठ करने से सारी मनोकामना पूरी होती है और तो और यह पढ़नें में सरल भी होते है और इसका प्रभाव भी अचूक होता है।

कैसे करें पाठ करने की तैयारी
सबसे पहले राम दरबार की स्थापना करें और कलश में पानी भरकर रखें। इसके पश्चात घी का दीपक जलाकर प्रसाद चढ़ाएं और साथ ही तुलसी दल अर्पित करना न भूले। फिर अपनी मनोकामना की पूर्ती करने का प्रार्थना सच्चे दिल से कर पाठ की शुरुआत करें। इसकी शुरुआत किसी भी मंगलवार, रविवार या नवमी तिथि को भी कर सकते है।

loading...
शेयर करें