सरकारी फरमान के बाद हटाए गए कई मशहूर लोगों के TWEETS

नई दिल्ली : कोरोना की दूसरी लहर के बीच सरकार ने सोशल मीडिया के लिए एक फरमान जारी किया है। खबर है की सरकार ने सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म्स को सौ ऐसे पोस्ट,TWEETS  और लिंक तुरंत हटाने का हुक्म दिया है जो सरकार के मुताबिक कोविड को लेकर अफवाह और दहशत फैलाने वाले हैं।

सरकार के इस फरमान पर अमल करते हुए माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर ने 24 अप्रैल को अपने प्लेटफॉर्म से कोरोना वायरस महामारी से रिलेटेड 50 से ज़्यादा पोस्ट को हटा दिया है। इस मसले पर जानकारों की माने तो सरकार ने ये हुक्म इस लिया दिया ताकि समाज में अमन बना रहे और इन भ्रामक पोस्‍ट्स के कारण देश में किसी तरह की अराजकता की स्थिति उत्‍पन्‍न न हो। इस कड़ी में आपको बताते चलें कि पिछले कुछ समय से कोरोना पेण्डामिक से जुडी पुरानी सूचनाओं और फर्जी खबरों को गलत तस्वीरों और आंकड़ों से जोड़कर सोशल मीडिया पर तेजी से फैलाया जा रहा था।

मिनिस्ट्री ऑफ़ आईटी ने दिया थे TWEETS  हटाने के निर्देश 

हाल ही में मिली जानकारी के अनुसार, ऐसे फर्जी पोस्ट पर सरकार की नजर पड़ने के बाद मिनिस्ट्री ऑफ़ इलेक्ट्रॉनिक एंड इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी ने सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म्स को यूज़र्स द्वारा शेयर किये गए  ऐसे तकरीबन 100 पोस्‍ट्स को हटाने के लिए कहा था जो पुराने,संदर्भ रहित तस्‍वीरों का इस्‍तेमाल करते हुए कोरोना के हालात के बारे में भ्रामक जानकारी फैला रहे थे।

ट्विटर द्वारा जारी डेटा के मुताबिक जिन एकाउंट्स से इन पोस्ट को डिलीट किया गया है उनमे कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ारा, संसद सदस्य रेवंत रेड्डी, पश्चिम बंगाल के मिनिस्टर मोलॉय घटक, ABP न्यूज़ के एडिटर पंकज झा, एक्टर विनीत कुमार, फिल्म प्रोडूसर अविनाश दास और फिल्म निर्माता एवं फॉर्मर जॉर्नलिस्ट विनोद कापड़ी के वेरिफाइड अकाउंट भी शामिल हैं।

जानकारों के माने तो हटाए गए इन ट्वीट्स में अफवाहों और भ्रामक इनफार्मेशन के साथ साथ बेड और दवा की कमी, दाह संस्कार और महामारी के बीच कुंभ मेले में भीड़ एकत्र होने से रिलेटेड ट्वीट्स भी थे।

यह भी पढ़ें : बाँदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी हुए Corona संक्रमित, 3 कैदी और भी जद में

Related Articles