चंद्रमा पर तिरंगा पहुंचने की बारहवीं वर्षगांठ, भारत बना पांचवा देश

चंद्रमा पर तिरंगा पहुंचने की बारहवीं वर्षगांठ, विश्व का पांचवा देश बना भारत

हैदराबाद: देश में दीवाली मनाये जाने के साथ-साथ चंद्रमा पर भारतीय ध्वज के पहुंचने के बारहवीं वर्षगांठ भी खुशियां के साथ मनाई जा रही है। भारत चंद्रमा पर अपना ध्वज पहुंचाने वाला विश्व का पांचवा देश बन गया था।

प्लैनेटरी सोसायटी ऑफ इंडिया

प्लैनेटरी सोसायटी ऑफ इंडिया के निदेशक एन. रघुनंदन कुमार ने कहा कि वर्ष 2008 में 14 नवंबर को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की तरफ से विकसित मून इंम्पैक्ट प्रोब (एमआईपी) चंद्रमा के सतह पर उतरा था। एमआईपी में भारतीय ध्वज भी लगा था और दोनों एक साथ चंद्रमा पर उतरे थे। यह सब इसरो के चंद्रयान-1 मिशन के तहत हुआ था।

चंद्रमा की परिक्रमा करने वाला चंद्रयान

एमआईपी 2008 में 14 नवंबर को 20:06 बजे चंद्रमा की परिक्रमा करने वाले चंद्रयान-1 से अलग होकर चंद्रमा की सतह पर उतरा था। एन. रघुनंदन कुमार ने कहा कि इस सफलता के साथ ही भारत चंद्रमा पर अपना ध्वज पहुंचाने वाला विश्व का पांचवा देश बन गया था। यह भारत के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि थी।

एमआईपी के जरिये आंकड़े

एन. रघुनंदन ने कहा कि इसके एक वर्ष बाद 2009 में अमेरिका के नासा ने अपने मून मिनरॉलजी मैपर की मदद से चंद्रमा पर जल की मौजूदगी की पुष्टि की थी। इसरो ने भी एमआईपी के जरिये जुटाये गये आंकड़े प्रस्तुत कर चंद्रमा पर जल के मौजूद होने की पुष्टि की थी।

भारत का राष्ट्रीय ध्वज चंद्रमा पर

एन. रघुनंदन कुमार ने कहा कि वर्ष 2008 के बाद से प्रत्येक वर्ष प्लैनेटरी सोसायटी ऑफ इंडिया भारत की इस महान उपलब्धि का उत्सव मनाता है और लोगों को भी ऐसा करने के लिए कहता है। दुर्भाग्यवश बहुत से लोग इस सच्चाई को नहीं जानते कि 14 नवंबर को भारत का राष्ट्रीय ध्वज चंद्रमा पर पहुंचा था।

INFOPSI पर जुड़ने का आग्रह

एन रघुनंदन कुमार ने बोला लोग 14 नवंबर को केवल ‘बाल दिवस’ के रूप में जानते और मनाते हैं, “हम लोगों से चंद्रमा पर भारतीय ध्वज के पहुंचने के 12 वर्ष पूरे होने की खुशियां मनाने के लिए व्हाट्सएप 7993482012 या INFOPSI पर हमारे साथ जुड़ने का आग्रह करते हैं।”

यह भी पढ़े:14 नवंबर को बाल दिवस के अलावा और क्या है खास, जानें आज का इतिहास पूरी दुनिया के साथ

यह भी पढ़े:चाचा नेहरू की 131वीं जयंती पर पीएम मोदी ने दी विनम्र श्रद्धांजली

Related Articles

Back to top button