ट्विटर किलर को मिली सजा-ए-मौत, जल्लाद के बारे में जान कर कांप उठेगी रूह

जापान में ट्विटर किलर को सजा-ए-मौत की सजा सूना दी गई है। ट्विटर किलर के नाम से कुख्यात अपराधी टाकाहिरो शिराइशी ट्विटर के माध्यम से लोगो को फंसाकर अपने घर बुलाता था फिर उनकी हत्या कर देता है। सिर्फ इतना ही नहीं ये इतना बड़ा जल्लाद था कि शवों को टुकड़े-टुकड़े कर देता था।

जापान: जापान में ट्विटर किलर को सजा-ए-मौत की सजा सूना दी गई है। ट्विटर किलर के नाम से कुख्यात अपराधी टाकाहिरो शिराइशी ट्विटर के माध्यम से लोगो को फंसाकर अपने घर बुलाता था फिर उनकी हत्या कर देता है। सिर्फ इतना ही नहीं ये इतना बड़ा जल्लाद था कि शवों को टुकड़े-टुकड़े कर देता था।

पुलिस ने 2017 में इस अपराधी को गिरफ्तार किया था, पुलिस को टोक्यो के पास जामा में स्थित इसके फ्लैट से मानव अंगों के टुकड़े भी मिले थे। पूछताछ के दौरान आरोपी टाकाहिरो ने 9 लोगों के हत्या की बात कबूली थी। ये भी उसने बताया कि हत्या के बाद वो शवों को टुकड़ों में बांटता था।

ट्विटर के माध्यम से टाकाहिरो के हाथो मरने वाले लोगो में अधिकतर महिलाएं शामिल थीं, ये ट्विटर के जरिए दोस्ती करके घटना को देता था अंजाम। इस मामले के खुलासे के बाद जापान में हड़कंप मच गया। टाकाहिरो शिराइशी के घर में कई मानव अंगो के टुकड़े मिलने के बाद जापानी मीडिया में उसके घर को हाउस ऑफ हारर नाम दिया गया था।

ट्विटर पर टाकाहिरो खुद को जल्लाद बताता था, वह उन महिलाओं को घर बुलाता था जो आत्महत्या करना चाहती थीं। वह कहता था कि इस काम में वह मदद करेगा। उसने ट्वीट में लिखा था मैं उन लोगों की मदद करूंगा जो वास्तव में तड़प रही हैं।

ये भी पढ़ें : कुशीनगर में दो युवतियों की मौत, परिजनों ने बिना पोस्टमार्टम किया अंतिम संस्कार

घर बुलाकर करता था हत्या

30 वर्षीय टाकाहिरो शिराइशी ने पुलिस को बताया कि साल 2017 के अगस्त से अक्टूबर के ट्विटर के माध्यम से दोस्ती कर उन्हें घर बुलाकर 8 महिलाओं और एक पुरुष की गला घोंटकर हत्या की थी। मरने वाले सभी लड़कियों की उम्र 15 से 26 साल के बीच बताई गई थी। यह भी आरोप था कि महिलाओं की हत्या करने से पहले उसने उनका यौन उत्पीड़न किया था।

ये भी पढ़ें : नितीश का संकल्प बिहार का करेंगे विकास, राज्य में लागू सात निश्चय पार्ट-2 

जल्लाद को मिली फांसी की सजा

जल्लाद टाकाहिरो को कोर्ट ने मंगलवार को फांसी की सजा सूना दी। उसके बचाव पक्ष में वकीलों ने उम्रकैद की सजा की मांग की थी। वकीलों का कहना था की हत्यारे ने मृतकों के कहने पर उनकी सहमति से हत्या की थी। लेकिन कोर्ट ने इस दलील को खारिज कर दिया।

 

 

 

Related Articles