IPL
IPL

बंद Car में मिलीं दो लाश, महिला को मौत की नींद सुलाकर पुरुष ने खुद को गोली से उड़ाया

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के कैंट इलाके के एनसीसी मेस के पास सोमवार की रात को सुनसान इलाके में एक कार (Car) खड़ी मिली। इंडियन आर्मी के जवान पेट्रोलिंग कर रहे थे उसी दौरान वहां पर एक कार (Car) खड़ी देखी और पास जाकर छानबीन की तो देखा कि उसमे खून से लथपथ महिला और पुरुष के शव पड़े थे। इंडियन आर्मी के जवान ने तुरंत इसकी खबर कैंट पुलिस को दी, मौके पर पहुंची पुलिस ने देखा कि दोनों को गोली लगी थी। जिसमे से महिला के सीने में जबकि पुरुष के माथे पर गोली लगी है। इस मामले को पुलिस प्रेम प्रसंग के एंगल से देख रही है। बताया जा रहा है कि पहले पुरुष ने महिला को गोली मारकर खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली।

सुनसान इलाके में मिला दोनों का शव

पुलिस के मुताबिक, कैंट थाना क्षेत्र के अंतर्गत एनसीसी मेस के पास सुनसान इलाके में सोमवार की रात को करीब नौ बजे इंडियन आर्मी के जवान को पेट्रोलिंग के समय एक कार में महिला और पुरुष का शव मिला। सूचना पर पहुंची पुलिस ने छानबीन की तो पता चला कि मरने वाले पुरुष का नाम संजय निगम (50) और मृतक महिला का नाम आशा अग्रवाल (35) है। आशा के सीने में और संजय निगम के माथे पर गोली लगी है। पुलिस का कहना है कि ये मामला प्रेम प्रसंग का लग रहा है। महिला की हत्या के बाद संजय ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली है। फोरेंसिक टीम को घटना स्थल से पुलिस को दो पन्ने का एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है। अधिकारी छानबीन करने में जुटी हुई हैं।

ये भी पढ़ें : UPPSC PCS का परिणाम हुआ घोषित, इन अभ्यर्थियों ने शहर का नाम किया रोशन, देखें टॉप 10 लिस्ट

सुसाइड नोट में लिखी ये बात

एडीसीपी पूर्वी एसएम कासिम आबिदी ने बताया है कि संजय निगम गोमतीनगर इलाके में परिवार के साथ रहते थे। मूलरूप से कैंट के रामदास का हाता निवासी संजय निगम शेफ किचन के नाम से रेस्टोरेंट चलाते हैं। इस सुसाइड नोट में संजय ने लिखा है कि मेरी मौत की जिम्मेदार अंजू नाम की महिला है और वो मेरी दुकान पर कब्जा करना चाहती है। सुसाइड नोट कब्जे में पुलिस अंजू की तलाश में जुट गई है। आखिरकार अंजू को कौन है? इसका पता नहीं चल सका। पुलिस कार के नंबर के आधार पर मालिक का पता लगाने में जुट गई थी। इसके बाद पता चला कार तेलीबाग के रहने वाले संतोष शर्मा के नाम से पंजीकृत थी। संतोष के घर गई पुलिस को पता चला कि कुछ दिन उन्होंने ये कार संजय निगम को बेची थी। ये कार अभी ट्रांसफर नहीं हुई थी।

ये भी पढ़ें : CBI इन्वेस्टीगेशन में महाराष्ट्र के फॉर्मर होम मिनिस्टर किये गए तलब

Related Articles

Back to top button