यूपी में कुवैती झंडे और अरबी भाषा के साथ लगे शिलालेख, दो के खिलाफ मुकदमा दर्ज

 

अलीगढ़: अलीगढ़ में विदेशी झंडे के साथ लगे हैंडपम्प के मामले ने तूल पकड़ लिया है। कल रविवार को छर्रा विधायक रविन्द्र पाल सिंह ग्रामीणों के साथ अकराबाद थाने पहुंच गये। थाने पहुंच उन्होंने अपने क्षेत्र में कुवैती झंडे और अरबी भाषा के साथ लगने वाले इस घटना क्रम को विदेशी साजिश बताया। साथ ही अवैध रूप से हैंडपंप लगाकर जनता को गुमराह करने के मामले में थाने के प्रभारी निरीक्षक को तहरीर दी और राष्ट्र गौरव अपमान निवारण अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कराया।

राष्ट्र विरोधी ताकतों की साजिश

अलीगढ के छर्रा से विधायक रविन्द्र पाल सिंह ने बताया दुभिया व खुर्रम पुर में जो हैंडपंप लगवाए गए हैं वह शमशेर उर्फ भोलू व बारिक अली ने लगवाए हैं। इसके पीछे उन्होंने राष्ट्र विरोधी ताकतों की साजिश बताई। भाजपा विधायक ने विदेशी झंडे के साथ लगे शिलालेख को बिना शासन-प्रशासन की अनुमति लगाया जाना गलत ठहराया।

भारतीय ध्वज के साथ सोची समझी साजिश

भाजपा विधायक ने कहा है कि हैंडपंप को लगाए जाने के बाद एक शिलालेख लगाया गया है। जो अरबी भाषा का प्रयोग करते हुए भारतीय ध्वज व कुवैत का ध्वज भी लगाया है। इसमें भारतीय ध्वज के साथ सोची समझी साजिश के तहत 24 तीलियों के स्थान पर केवल 8 तीलियां लगाई गई। जो भारतीय ध्वज का अपमान व राष्ट्रद्रोह है।

गंदा पानी पी कर इलाके के लोग होगें बीमार

वही सांसद ने हैंडपंप के चबूतरे का डिजाइन भी कब्र नुमा है। जो एक विशेष समुदाय के असामाजिक तत्वों द्वारा सोची समझी साजिश है। उन्होंने यह भी कहा कि हैंडपंप 60 फुट पर लगाया गया है। जिससे गंदा पानी पी कर इलाके के लोग बीमार होगें। इससे सरकार की छवि धूमिल करने की साजिश की गई है। मानसून के पश्चात यह हैंडपंप पानी नहीं देंगे। इस क्षेत्र का पानी लेवल काफी नीचे है।

जिसके बाद थाना अकराबाद में मुकदमा राष्ट्र गौरव अपमान निवारण अधिनियम 1971 की धारा 2 व आईपीसी की धारा 269 में भाजपा के छर्रा विधायक रविंद्र पाल सिंह ने दर्ज कराया है।

 

Related Articles

Back to top button