महाराष्ट्र में मंदिर खोलने को लेकर गवर्नर और CM ठाकरे आमने-सामने, उद्धव बोले ‘मेरे हिंदुत्व को आपसे सत्यापन की आवश्यकता नहीं’

महाराष्ट्र में मंदिर खोलने को लेकर गवर्नर और CM ठाकरे आमने-सामने, उद्धव बोले 'मेरे हिंदुत्व को आपसे सत्यापन की आवश्यकता नहीं'

मुंबई: महाराष्ट्र में सिद्धिविनायक मंदिर को खोलने के लिए भाजपा कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे हैं। महाराष्ट्र सरकार ने प्रदर्शनों को देखते हुए भारी पुलिस बल की तैनाती भी कर दिया है, पर ऐसे में भाजपा और शिवसेना की धार्मिक आस्था की राजनीती भी सामने आ गई है। प्रदर्शनों को देखकर महाराष्ट्र के राज्यपाल ने CM उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर मंदिर खोलने की बात कही तो वहीँ उद्धव ने पत्र का पलटवार कर सीधे केंद्र सरकार की कर्रवाई पर सवाल उठा दिया।

गवर्नर कोश्यारी ने लिखी सीएम उद्धव को लिखा पत्र

महाराष्ट्र के गवर्नर भगत सिंह कोश्यारी ने CM उद्धव ठाकरे को पत्र लिखा है। पत्र में राज्यपाल ने मुख्यमंत्री से धार्मिक स्थलों को फिर से खोलने का आग्रह किया। गवर्नर ने कहा है कि ‘एक जून से राज्य में धार्मिक स्थलों को खोलने का एलान किया गया था, लेकिन चार महीने बीत चुके हैं, इस दिशा में कोई भी कदम नहीं उठाया गया है।’

राज्यपाल ने पत्र में आगे कहा, यह विडंबना है कि सरकार ने एक तरफ बार और रेस्तरां को खोल दिया है, लेकिन दूसरी तरफ मंदिर जैसे धार्मिक स्थानों को नहीं खोला गया है। आप हिंदुत्व के मजबूत पक्षधर रहे हैं। आपने भगवान राम के लिए सार्वजनिक रूप से अपनी भक्ति व्यक्त की। मुझे आश्चर्य है कि आपको मंदिरों को नहीं खोलने के लिए कोई दिव्य प्रेम प्राप्त हो रहा है या फिर आप धर्मनिरपेक्ष हो गए हैं। यह एक ऐसा शब्द है, जिससे आप नफरत करते हैं।’

CM उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र के राज्यपाल के पत्र का पत्र लिखकर दिया जवाब

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी द्वारा CM उद्धव को लिखी गई चिट्ठी पर CM उद्धव ठाकरे ने पत्र लिखकर जवाब दिया है। मुख्यमंत्री उद्धव ने कहा है कि ‘जैसा कि अचानक से लॉकडाउन को लागू करना सही नहीं था, एक बार में इसे पूरी तरह से रद्द करना भी अच्छी बात नहीं होगी। और हां, मैं ऐसा व्यक्ति हूं जो हिंदुत्व का अनुसरण करता है, मेरे हिंदुत्व को आपसे सत्यापन की आवश्यकता नहीं है।’

ये भी पढ़ें : मोबाइल ग्राहकों का आंकड़ा छूने वाली देश की पहली कंपनी बनी जियो

 

Related Articles