UIDAI का दावा- नहीं हुआ आधार सॉफ्टवेयर हैक, सब कोरी अफवाह

0

नई दिल्ली: आधार कार्ड की सुरक्षा पर अक्सर सवाल उठते रहते हैं। एक बार फिर से आधार की सिक्योरिटी पर सवाल खड़ा हुआ है। दरअसल, एक मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 2500 रुपये में आधार बन सकता है। यही नहीं बताया गया कि आधार सॉफ्टवेयर तक हैक कर सुरक्षा पैच तोड़ा जा सकता है। रिपोर्ट में ये भी कहा गया कि एक करोड़ से ज्यादा भारतीयों के आधार कार्ड का डेटा हैक किया जा चुका है। वहीं, UIDAI ने इन खबरों को आधारहीन बताया है।

दरअसल, अंग्रेजी वेबसाइट हफपोस्ट ने दावा किया है कि उसने तीन महीनों की  जांच में पाया कि हैकरों ने ऐसा सॉफ्टवेयर बना लिया है, जिससे नया आधार कार्ड तैयार किया जा सकता है। नए आधार कार्ड धारकों को पंजीकरण की प्रक्रिया में तकनीकी खामी का फायदा उठाकर ये हैकर डेटा चुरा रहे हैं और भारतीय नागरिकों के आधार डेटा 2500/- रुपए में बेचा जा रहा है। दावा यह भी किया गया कि भारत के करीब एक अरब लोगों की निजी जानकारी दांव पर लगी है।

आधार हैक होने के दावे पर कांग्रेस ने ट्टीट के जरिए डेटाबेस की सुरक्षा को लेकर सवाल उठाए। कांग्रेस ने ट्वीट किया, आधार सॉफ्टवेयर के हैक होने से आधार डेटाबेस की सुरक्षा खतरे में आ सकती है, उम्मीद है कि अधिकारी भावी नामांकनों को सुरक्षित करने और संदिग्ध नामांकन की पुष्टि के लिए जरूरी कदम उठाएंगे।

यूआईडीएआई ने खबरों को बकवास बताया

वहीं, यूनिक आइडेंटिफिकेशन ऑथोरिटी ऑफ इंडिया (यूआईडीएआई) ने इन खबरों को सिरे से नकारते हुए गलत करार दिया है। यूआईडीएआई ने कहा कि आधार के सॉफ्टवेयर हैक होने के दावे बकवास हैं। यह खबर तथ्यहीन, आधारहीन और शरारतपूर्ण है। यूआईडीएआई ने कहा कि कुछ लोग जानबूझकर भ्रम पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं।

loading...
शेयर करें