ब्रिटेन कोर्ट ने दिया भारतीय अफसरों को माल्या की संपत्ति तलाशने का अधिकार, कई संपत्तियां हो सकती हैं ज़ब्त

नई दिल्ली: भारत के कई बैंकों को 9 हजार करोंड़ रुपये का चूना लगाकर देश से फरार होने वाले भगोड़े विजय माल्या को लंदन में बड़ा झटका लगा है। ब्रिटेन की कोर्ट ने भारत के 13 बैंकों के पक्ष में फैसला सुनाते हुए उन्हें अनुमति दी है कि भारतीय अफसर माल्या के ठिखानें पर जाकर उसकी संपत्ति जब्त कर सकते हैं। दरअसल, बैंकों के कंसोर्शियम ने लंदन कोर्ट में संपत्ति जब्त करने के लिए अर्जी दी थी। कोर्ट ने सुनवाई करते हुए यह आदेश दिया है।

रिकवरी के लिए होगी कार्रवाई

आपको बता दें कि विजय माल्या काफी समय से अपनी दोस्त पिंकी लालवानी के ठिकाने पर रह रहे हैं जोकि ब्रिटेन के तेविन इलाके में है। आपको बता दें कि ब्रिटेन के हाई कोर्ट ने यह फैसला ऐसे समय सुनाया है जब माल्या बेंगलुरू डेब्ट रिकवरी ट्रिब्यूनल में रजिस्ट्रेशन का अपना केस कोर्ट में हार गए। डीआरटी के मुताबिक, माल्या के ऊपर 6,203 करोड़ रुपए के अलावा 9,863 रुपए तक का ब्याज कर्ज है। जिसके बाद 26 जून को हाई कोर्ट ने फैसला सुनाया था कि माल्या के अलग-अलग ठिकानों लेडीवॉक, क्वीन हू लेन, तेविन, वेल्विन, ब्रैंब्ले लॉज में तलाशी कर सकती है और माल्या के कब्जे की चीजों पर अपना अधिकार हासिल कर सकती है।

माल्या की संपत्ति में दाखिल हो सकेंगे अधिकारी

ब्रिटेन कोर्ट के जज जस्टिस ब्रायन ने यह फैसला सुनाते हुए अनुमति दी कि इस काम के लिए जरूरत पड़े तो पुलिसबल को भी ले जाया जा सकता है। हालांकि अभी तक कोर्ट ने माल्या की कॉर्नवेल टेरेस प्रॉपर्टी जोकि रीजेंट पार्क में हैं के खिलाफ कोई फैसला नहीं सुनाया है। इससे पहले 24 नवंबर 2017 को ब्रिटेन कोर्ट ने बेंगलुरू डीआरटी के फैसले को रजिस्टर करते हुए माल्या की दुनियाभर में 10421 करोड़ रुपए की संपत्ति को जब्त करने का आदेश दिया था। जिसके बाद माल्या ने संपत्ति को सीज करने के आदेश के खिलाफ अपील की थी, लेकिन कोर्ट ने बैंकों के पक्ष में अपना फैसला सुनाया है।

ईडी को मिला कार्रवाई का अधिकार

ब्रिटेन  की हाई कोर्ट ने 26 जून को मामले की सुनावाई करते हुए आदेश दिया कि प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारी भारतीय कानून के तहत कानूनी कार्रवाई कर सकते हैं। अब माना जा रहा है कि भारत जल्द ही विजय माल्या पर कड़ी कार्रवाई कर सकता है।

Related Articles