अफगान शांति वार्ता के बीच संयुक्त राष्ट्र का खुलासा, तालीबान और अलकायदा में नजदीकी बरकरार

नई दिल्लीः अमेरिका और तालीबान के बीच चल रही शांति वार्ता के बीच संयुक्त राष्ट्र ने खुलासा करते हुए तालीबान और अलकायदा के संबंधों में नजदीकी का दावा किया है।

दरअसल इस्लामिक स्टेट (आईएस), अलकायदा और तालिबान के लिए संयुक्त राष्ट्र की मॉनिटरिंग टीम के कोआर्डिनेटर एडमंड फिटन ब्राउन ने एक वेबिनार में इस खुलासा किया है। फिटन ने संबोधन के दौरान कहा कि, शांति प्रक्रिया के दौरान तालिबान ने अमेरिका को भरोसा दिलाया था कि वह अलकायदा से अपने संबंधों पूरी तरह खत्म कर लेगा। जबकि अलकायदा के हथियारबंद आतंकी अफगानिस्तान में अब भी सक्रिय हैं। अलकायदा प्रमुख अयमान अल-जवाहिरी के तालिबान के साथ अब भी करीबी संबंध हैं।

गौरतलब है कि अफगान शांति प्रक्रिया शुरू होने से पहले अमेरिका ने तालीबान के आगे अलकायदा से सहित सभी आतंकी संगठनों से रिश्ते खत्म रखने की शर्त रखी थी। अमेरिका की इस शर्त पर तालीबान ने भी हरी झंडी दिखा दी थी।

हालांकि, तालिबान ने संयुक्त राष्ट्र के अधिकारी के इन दावों को पूरी तरह से खारिज करते हुए कहा है कि, शांति वार्ता के दौरान हमने अलकायदा के साथ कोई परामर्श नहीं किया। कुछ खास खुफिया समूह अफगानिस्तान में शांति को बाधित करने का प्रयास कर रहे हैं।

इसी बीच इस बीच, अफगानिस्तान के लिए अमेरिका के विशेष दूत जलमय खलीलजाद ने ईरान को अफगान शांति वार्ता के खिलाफ बताते हुए कहा कि, एक तरफ ईरान अफगान शांति प्रक्रिया का समर्थन करता है। वहीं दूसरी तरफ ईरान अमेरिका को अफगान युद्ध में उलझाए रखने की मंशा रखता है और वो इस शांति वार्ता के पूरी तरह से खिलाफ है।

Related Articles