IPL
IPL

लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज का अपमान दुर्भाग्यपूर्ण: राष्ट्रपति काेविंद

राष्ट्रपति काेविंद ने ऐतिहासिक लाल किले में तोड़फोड़ और हिंसा में राष्ट्रीय ध्वज के अपमान को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है

नई दिल्ली: राष्ट्रपति रामनाथ काेविंद ( President Ramnath Kaevind ) ने गणतंत्र दिवस (Republic Day) के दिन ट्रैक्टर रैली के दौरान ऐतिहासिक लाल किले में तोड़फोड़ और हिंसा में राष्ट्रीय ध्वज के अपमान को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है।

कोविंद ने शुक्रवार को संसद के बजट सत्र के पहले दिन दोनों सदनों की संयुक्त बैठक में अपने अभिभाषण के दौरान कहा, “पिछले दिनों हुआ तिरंगे और गणतंत्र दिवस जैसे पवित्र दिन का अपमान बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। जो संविधान हमें अभिव्यक्ति की आजादी का अधिकार देता है, वही संविधान हमें सिखाता है कि कानून और नियम का भी उतनी ही गंभीरता से पालन करना चाहिए।

राष्ट्रपति रामनाथ काेविंद ने कहा कि देश की सर्वोच्च अदालत ने इन कानूनों को अभी स्थगित कर दिया है और सरकार उच्चतम न्यायालय ( Supreme court ) के निर्णय का पूरा सम्मान करते हुए उसका पालन करेगी। उन्होंने कहा कि इन कानूनों को व्यापक विचार विमर्श के बाद संसद में पारित किया गया था।

उल्लेखनीय है कि गणतंत्र दिवस के दिन आंदोलनकारी किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान कुछ उपद्रवी तत्व लाल किले में पहुंच गये और वहां उन्होंने तिरंगे का अपमान किया तथा एक संगठन का झंडा वहां लगा दिया। इस दौरान उपद्रवियों तथा पुलिस के बीच झड़प हुई जिसमें बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी घायल हुए।

यह भी पढ़े: अरविन्द केजरीवाल और अखिलेश यादव ने भी किया किसानों का समर्थन

Related Articles

Back to top button