स्कूली बच्चों की अनोखी पहल, बनाया सैंड आर्ट (Sand Art), जानें इस आर्ट का राज

प्रयागराज के माघ मेले स्कूली बच्चे सैंड आर्ट (Sand Art) बना रहे हैं। इसके जरिए यह संदेश दिया जा रहा है कि गंगा को स्वच्छ और संरक्षित रखना बहुत जरूरी है

उत्तर प्रदेश: प्रयागराज के माघ मेले (Magha Mela) में एक अनोखी पहल के तरह स्कूली बच्चे सैंड आर्ट (Sand Art) बना रहे हैं। इसके जरिए यह संदेश दिया जा रहा है कि गंगा को स्वच्छ और संरक्षित रखना बहुत जरूरी है। संयोजक ने बताया, यहां लगभग 15 तरह के आर्ट है जिसमें 150 बच्चे काम कर रहे हैं। सबकी एक ही थीम है।

गंगा के लिए बड़ा अभिशाप

गंगा नदी में होने वाला प्रदूषण पिछले कई सालों से भारतीय सरकार और जनता के लिए चिंता का विषय बना हुआ है। इस नदी उत्तर भारत की सभ्यता और संस्कृति की सबसे मजबूत आधार है। उत्तर भारत के लगभग सभी प्रमुख शहर और उद्योग करोड़ों लोगों की श्रद्धा की आधार गंगा और उसकी सहायक नदियों के किनारे हैं और यही उसके लिए सबसे बड़ा अभिशाप साबित हो रहे हैं।

यह भी पढ़ेBigg Boss 14: फिनाल वीक में शॉकिंग इविक्शन, दिखाई टॉफी झलक

प्रदूषण का कारण

ऋषिकेश से लेकर कोलकाता तक गंगा के किनारे परमाणु बिजलीघर से लेकर रासायनिक खाद तक के कारखाने लगे हैं। कानपुर का जाजमऊ इलाका अपने चमड़ा उद्योग के लिए मशहूर है। यहां तक आते-आते गंगा का पानी इतना गंदा हो जाता है कि उसमें डुबकी लगाना तो दूर, वहां खड़े होकर सांस तक नहीं ली जा सकती। गंगा की इसी दशा को देख कर मशहूर वकील और मैगसेसे पुरस्कार विजेता (Magsaysay Award Winner) एमसी मेहता ने 1945 में गंगा के किनारे लगे कारखानों और शहरों से निकलने वाली गंदगी को रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर की थी। फिर सरकार ने गंगा सफाई का बीड़ा उठाया और गंगा एक्शन प्लान (Ganga Action Plan) की शुरुआत हुई।

गंगा एक्शन प्लान

अप्रैल 1945 में गंगा एक्शन प्लान की शुरुआत हुई और बीस सालों में इस पर 1200 करोड़ रुपये खर्च हुए। इस योजना की बदौलत गंगा के किनारे बसे शहरों और कारखानों में गंदे और जहरीले पानी को साफ करने के प्लांट लगाए गए। इनसे गंगा के पानी में थोड़ा सुधार जरूर हुआ लेकिन गंगा में गंदगी का गिरना जारी रहा और आखिर कार गंगा एक्शन प्लान (Ganga Action Plan) असफल हो गाया। प्रयाग राज के माघ मेले में स्कूली बच्चे सैंड आर्ट बनाए जिसका उद्देश्य गंगा को स्वच्छ रखना है।

यह भी पढ़ेCorona Update: देश में 82,85,295 लोगों को लगी COVID-19 वैक्सीन, जानें राज्यों में संक्रमण का आंकड़ा

Related Articles

Back to top button