तख्तापलट के बीच संयुक्त राष्ट्र ने म्यांमार में उतारे 2,500 से अधिक जवान

New York (US) :  संयुक्त राष्ट्र (United Nations) के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक (stephane dujarric) ने बुधवार को कहा कि संयुक्त राष्ट्र म्यांमार (Myanmar) की स्थिति पर बारीकी से निगरानी बनाए हुए है और सैन्य तख्तापलट के बाद आबादी को समर्थन देने के लिए जमीन पर 2,500 से अधिक कर्मियों को भेजा है।

दुजारिक ने एक प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि “हम स्पष्ट रूप से वहां की स्थिति को चिंता के साथ देख रहे हैं।” उन्होंने कहा, कि “संयुक्त राष्ट्र के म्यांमार (Myanmar) में अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय दोनों क्षेत्रों में 2,500 से अधिक कार्मिक हैं।  जो म्यांमार के लोगों को लोकतंत्र, शांति, मानवाधिकारों और कानून के शासन की खोज में महत्वपूर्ण विकास और मानवीय सहायता प्रदान करते हैं।”

कठिन समय पर Myanmar में हुआ तख्तापलट

प्रवक्ता ने कहा कि म्यांमार में नवीनतम राजनीतिक घटनाक्रम देश के लिए विशेष रूप से कठिन समय पर आया है, क्योंकि म्यांमार भी वैश्विक महामारी और सामाजिक-आर्थिक प्रभावों के साथ एक सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल का सामना कर रहा है। उन्होंने कहा कि पिछले सप्ताह ही म्यांमार में कोविड के टीके आए है।

इसे भी पढ़े; किसान आंदोलन को लेकर भारतीय दिग्गज खिलाड़ी भी उतरे मैदान में, विराट ने कहीं ये बड़ी बात

प्रवक्ता ने आगे कहा, “संयुक्त राष्ट्र म्यांमार में एक मिलियन से अधिक लोगों को मानवीय सहायता भी प्रदान कर रहा है।”
म्यांमार में संयुक्त राष्ट्र महासचिव के विशेष दूत क्रिस्टीन श्रानेर बर्गनर ने मंगलवार को दक्षिण पूर्व एशियाई देश की सेना द्वारा उठाए गए कदमों की कड़ी निंदा की और इसे चौंकाने वाला बताया।

बता दें कि म्यांमार की सेना ने सोमवार सुबह तख्तापलट करके देश पर नियंत्रण कर लिया है। नवंबर 2020 में हुए चुनाव में धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए सेना ने आंग सान सू की, विन म्यिंट और अन्य नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी (एनएलडी) के सदस्यों को हिरासत में ले लिया है और देश में एक साल के लिए आपातकाल की घोषणा की है।

Related Articles

Back to top button