फिर से खुलेंगे विश्वविद्यालय और कॉलेज, यूजीसी ने जारी कीं नई गाइडलाइंस

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने आज गुरुवार को नई गाइडलाइंस को जारी करते हुए देश के सभी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को खोलने का आदेश दिया है।

नई दिल्ली: साल 2020 में मार्च के महीने में कोरोना महामारी फैलने के कारण देश भर में बंद हुए विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को एक बार फिर से खोलने का आदेश जारी किया गया है। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने आज गुरुवार को नई गाइडलाइंस को जारी करते हुए देश के सभी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को खोलने का आदेश दिया है। केंद्रीय विश्वविद्यालयों और अन्य केंद्रीय वित्त पोषित उच्च शिक्षा संस्थानों को फिर से खोलने का निर्णय उनके कुलपतियों और प्रमुखों पर छोड़ दिया गया है।

यूजीसी ने कहा है कि प्रमुख महामारी के बीच भौतिक रूप से राज्य विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में कक्षाओं को शुरू करने के लिए कैंपस खोलने के लिए राज्य सरकारें फैसला करेंगी। जबकि केंद्र से वित्तीय सहायता प्राप्त उच्च शिक्षण संस्थानों के प्रमुख महामारी के बीच भौतिक रूप से कक्षाएं शुरू करने के लिए कैंपस खोलने को लेकर फैसला लेंगे। नए दिशानिर्देशों में कहा गया है कि विश्वविद्यालय और कॉलेज कैंपस चरणबद्ध तरीके से खोले जा सकते हैं।

ये भी पढ़े : IPL 2020: हार्दिक पांड्या की तूफानी पारी से दिल्ली को मिला 201 रन का टारगेट

नई गाइडलाइंस

नई गाइडलाइंस के अनुसार विश्वविद्यालयों और कॉलेजों से आदेश में कहा गया है कि चरणबद्ध तरीके से कैंपस परिसरों को खोलने की योजना बनाएं तथा ऐसी गतिविधियों पर ध्यान दें जिसमे कोरोना वायरस से बचने के लिए नियमो का पालन हो। कोरोना वायरस से बचने के लिए नियमो में सामाजिक दूरी, मास्क और सेनिटाइजर का उपयोग शामिल हैं।

ये भी पढ़े : हिमाचल प्रदेश में होगा राष्ट्रीय जूनियर बैडमिंटन टूर्नामेंट, खेल मंत्री राकेश पठानिया ने दी जानकारी

विश्वविद्यालय और कॉलेजों को खोलने की अनुमति

दिशानिर्देशों में कहा गया है कि, “विश्वविद्यालय और कॉलेजों को खोलने की अनुमति उसी को मिलेगी जोनिषिद्ध क्षेत्रों से बाहर हों। अगर विश्वविद्यालय और कॉलेज कन्टेनमेंट जोन से बाहर हैं तो ही उन्हें खोलने की इजाजत मिलेगी। कन्टेनमेंट जोन में रहने वाले विद्यार्थियों और शिक्षकों को कॉलेज में प्रवेश करने की अनुमति नहीं होगी। विश्वविद्यालय और कॉलेज के शिक्षकों, कर्मचारियों और छात्रों को आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। छात्रों और कर्मचारियों को सलाह दी जाएगी कि वे निषिद्ध क्षेत्रों में आने वाले इलाकों का दौरा न करें।

Related Articles

Back to top button