उन्नाव रेप केस : कुलदीप सिंह सेंगर के भाई अतुल समेत 4 गिरफ्तार, विधायक जी अभी भी घूम रहे खुलेआम

उन्नाव। बीते दिन जिस महिला ने लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास के बाहर आत्मदाह की कोशिश करते हुए उन्नाव के भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर रेप के गंभीर आरोप लगाए थे, सोमवार को उसी महिला के पिता की उन्नाव जेल में संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गई। वह उन्नाव जिला जेल में बंद थे। इस मामले में पुलिस ने कुलदीप सिंह के भाई अतुल समेत 4 लोगों को मारपीट के मामले में गिरफ्तार किया गया है।

कुलदीप सिंह सेंगर

डीजीपी ने कहा है कि यूपी पुलिस ने कोई लापरवाही नहीं की है। जिन पांच पुलिसकर्मियों की हीलाहवाली मिली, उन्हें सस्पेंड किया जा चुका है। लखनऊ क्राइम ब्रांच मामले की गहनता से जांच कर रही है। जो भी दोषी सामने आएंगे, उन पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

पीड़िता ने कहा, ”कुलदीप सेंगर को गिरफ्तार नहीं किया जा रहा है। मुझे नहीं पता कि उसके भाई को पकड़ा गया है। उसने मेरा जीवन दुखी बना दिया, मुझे इंसाफ चाहिए। मेरे पिता को भी मार डाला। हम चाहते हैं कि विधायक को फांसी दी जाए।”

कुलदीप सिंह सेंगर

बता दें कि उन्नाव की रहने वाली एक युवती ने कुलदीप सिंह सेंगर पर गैंगरेप और अपने पिता को मरवाने का आरोप लगाया है। विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर गुंडागर्दी का आरोप लगाते हुए रविवार को पीड़िता का पूरा परिवार लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास के बाहर धरने पर बैठ गया। इस दौरान पीड़िता ने आत्मदाह करने की कोशिश भी की।

इस बीच पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए पीड़िता के पिता की सोमवार को मौत हो गई। पीड़िता का आरोप है कि पिछले साल 4 जून को कुलदीप सिंह सेंगर और उसके कुछ गुर्गों ने उसके साथ गैंगरेप किया। पीड़िता का यह भी आरोप है कि उसने पुलिस से इसका शिकायत की लेकिन उसकी कहीं सुनवाई नहीं हुई। यहां तक कि दर्ज कराई गई प्राथमिकी में से विधायक कुलदीप सिंह का नाम तक हटा दिया गया।

कुलदीप सिंह सेंगर

उधर, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार शाम विधायक कुलदीप सेंगर को तलब किया। सीएम से मुलाकात को लेकर सेंगर ने कहा, ”मुझे बुलाया नहीं गया है, बल्कि मैं खुद उनसे मिलने आया हूं। मुझे जांच से कोई परेशानी नहीं है। जो लोग आरोप लग रहे हैं वो निम्न स्तर के हैं और यह अपराधियों की साजिश है।”

Related Articles