उन्नाव: सफीपुर सीएचसी प्रभारी के खिलाफ डॉक्टरों ने की बगावत

0

लखनऊ। सफीपुर सीएचसी में तीन दिन पहले एक बालिका की मौत हो गई थी। इस मामले में ड्यूटी पर रहे डॉक्टर्स के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज होने पर अस्पताल के डॉक्टर्स काफी आक्रोश में हैं। डॉक्टरों के मुताबिक ये सब राजनीतिक दबाव के चलते सीएचसी प्रभारी के इशारे पर किया गया है।
सीएचसी के चारों डॉक्टरों ने बगावत कर सीएमओ को लिखित पत्र दिया है। उन्होंने लिखा की 24 घंटे में सीएचसी प्रभारी को न हटाया गया तो कोई डॉक्टर काम नहीं करेगा। डॉक्टरों की बगावत से सीएमओ भी काफी दबाव में हैैं।

सोमवार को सफीपुर सीएचसी में तैनात डॉ. ललित, शफीक अहमद, डॉ. कौशलेंद्र और डॉ. दिनेश कुमार ने सीएमओ से मिलकर पत्र दिया। पत्र में आरोप लगाया है कि बच्ची की मौत के मामले में डॉ. कौशलेंद्र के खिलाफ जो एफआइआर दर्ज की गई है। वह प्रभारी चिकित्साधिकारी की साजिश के तहत दर्ज कराई गई है। डॉक्टरों का आरोप है कि पूर्व में भी प्रभारी पद पर रहते हुए सीएचसी प्रभारी डॉ. राजेश के इशारे पर डॉ. कौशलेंद्र व डॉ. दिनेश के साथ नाइट ड्यूटी में अभद्रता हुई थी।

शिकायतों के बाद तत्कालीन डीएम के निर्देश पर उन्हें हटा दिया गया था। कुछ दिन पहले सीएमओ ने उन्हें पुन: प्रभारी पद पर तैनात कर दिया उसके बाद उसी खुन्नस में प्रभारी के इशारे पर डॉ. कौशलेंद्र के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। चारों डाक्टरों ने लिखित चेतावनी दी है कि अगर 24 घंटे में उन्हें नहीं हटाया गया है तो वह सभी वहां काम नहीं करेंगे।

सीएमओ डॉ. लालता प्रसाद ने कहा कि वह वीडियो कांफ्रेसिंग में थे जानकारी मिली है डाक्टर प्रार्थना पत्र देकर गए हैं। कल डाक्टरों से बात करूंगा और जो समस्या होगी समाधान किया जाएगा। इस तरह की चेतावनी देना गलत है इससे प्रशासनिक व्यवस्था बिगड़ती है।

loading...
शेयर करें