यूपी सरकार ने अस्पतालों में OPD सेवाओं के संचालन पर रोक नहीं लगाई: सीएम योगी

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिलाधिकारियों को अनिवार्य रूप से भ्रमण कर प्रदेश में अस्पतालों द्वारा उपलब्ध कराई जा रही सेवाओं का निरीक्षण करते रहने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा है कि जनपदों में नोडल अधिकारी के तौर पर नामित स्वास्थ्य विभाग के अपर निदेशक और संयुक्त निदेशक स्तर के वरिष्ठ डॉक्टर चिकित्सालयों की व्यवस्था को बेहतर बनाए रखने के लिए निरन्तर प्रभावी प्रयास करें.

मुख्यमंत्री आज यहां लोक भवन में एक उच्च स्तरीय बैठक में अनलॉक (Unlock 1.0) व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे. सीएम योगी ने कहा कि राज्य सरकार ने अस्पतालों में इमरजेंसी सेवाएं और आवश्यक ऑपरेशन 20 अप्रैल के बाद प्रारम्भ कर दिए हैं. राज्य सरकार ने अस्पतालों में ओपीडी सेवाओं के संचालन पर रोक नहीं लगाई है. जो चिकित्सालय स्वास्थ्य विभाग के प्रोटोकॉल के अनुरूप सभी सावधानियों का पालन करते हुए चिकित्सा सुविधा प्रदान करना चाहते हैं. उन्हें जनपद स्तर पर अनुमति दी जाए. कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए यह जरूरी है.

एनसीआर पर विशेष सतर्कता

सीएम ने इस दौरान कोविड-19 के संक्रमण को लेकर एनसीआर क्षेत्र में विशेष सतर्कता बरतने का निर्देश दिया. सीएम ने कहा कि दिल्ली से बड़े पैमाने पर होने वाले आवागमन को देखते हुए संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए सभी जरूरी कदम उठाए जाएं. मेरठ मण्डल के सभी जनपदों के कोविड चिकित्सालयों में बेड की संख्या दोगुनी की जाए. उन्होंने इन जनपदों में आवश्यकतानुसार अतिरिक्त मानव संसाधन की व्यवस्था आउटसोर्सिंग के माध्यम से करते हुए ट्रेनिंग के पश्चात इनकी सेवाएं प्राप्त करने के निर्देश भी दिए. उन्होंने कहा कि इन जनपदों के नोडल अधिकारियों से संवाद बनाकर उनसे प्राप्त फीडबैक के क्रम में आवश्यक प्रबन्ध सुनिश्चित किए जाएं.

कोविड-19 संक्रमित लक्षणहीन व्यक्ति को घर में रहने की अनुमति नहीं दी जा सकती

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण को प्रत्येक दशा में रोका जाना है इसलिए कोविड-19 संक्रमित लक्षणहीन व्यक्ति को घर में रहने की अनुमति नहीं दी जा सकती, क्योंकि इससे संक्रमण के प्रसार की आशंका बनी रहती है. प्रदेश के कोविड अस्पतालों में 1 लाख से अधिक बेड उपलब्ध हैं. संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए कोविड-19 संक्रमित लक्षणरहित व्यक्ति को कोविड चिकित्सालय में रखते हुए उसकी निरन्तर माॅनिटरिंग आवश्यक है. उन्होंने सभी जनपदों में उपलब्ध वेंटीलेटरों को कार्यशील रखने तथा निगरानी समितियों को सक्रिय बनाए रखने के निर्देश भी दिए.

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि जनपदों में बैंकों द्वारा सभी पात्र एमएसएमई इकाइयों को ऋण की सुविधा प्राप्त हो. उन्होंने मुख्य सचिव को नगर निगम कर्मियों के वेतन भुगतान की समस्या का यथाशीघ्र समाधान कराने के निर्देश भी दिए. इस अवसर पर चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना, स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह, स्वास्थ्य राज्य मंत्री अतुल गर्ग, मुख्य सचिव आरके तिवारी, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक टण्डन, कृषि उत्पादन आयुक्त आलोक सिन्हा, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह अवनीश कुमार अवस्थी आदि मौजूद रहे.

Related Articles