कोरोनावायरस को लेकर UP Model TTT सबसे बेहतर, योगी ने किया ये बड़े काम

उत्तर प्रदेश में कोरोनावायरस को नियंत्रण करने में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ट्रिपल टी (ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट) मॉडल खूब काम आया है।

लखनऊ:  उत्तर प्रदेश में कोरोनावायरस को नियंत्रण करने में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ट्रिपल टी (ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट) मॉडल खूब काम आया है। लगातार 36वें दिन भी कम आए यूपी में कोरोना के मामले 24 घंटे में सिर्फ 1, 000 नए केस आए। अब प्रदेश में 20,000 से कम सक्रिय केस रह गए है।

सक्रिय केसों की कुल संख्या 19,431

30 अप्रैल को सबसे ज्यादा 38,000 मामले आए थे। विशेषज्ञों ने रोज एक लाख के आने की आशंका जताई थी। लेकिन सीएम योगी की सतत निगरानी और ट्रेस, टेस्ट ऑफ़ ट्रीट के फार्मूले के साथ माइक्रो मैनेजमेंट ने नियंत्रित किया का ब्रेक की संक्रमण की चेन 24 घंटे में कुल 3.09 लाख टेस्ट हुए हैं। 5 करोड़ से ज्यादा टेस्ट करने वाला यूपी अकेला राज्य है। आपको बता दें, अब उत्तर प्रदेश में रिकवरी रेट 97.6 प्रतिशत हो गया है। इसके साथ ही पॉजिटिविटी रेट 0.3 प्रतिशत है।

मुख्यमंत्री इस वक्त रहे सराहनीय

जीवन के साथ जीविका को भी सुरक्षित रखने में सफल रही। दिल्ली महाराष्ट्र समेत कई राज्यों ने संपूर्ण लाकडाउन लगाया गया जबकि यूपी में केवल कोरोना कर्फ्यू ही लगाया गया। सभी सामाजिक व आर्थिक गतिविधियां को सावधानी के साथ चलने दी गयीं।

कृषि, मंडी, निर्माण कार्य, उद्यम- सभी को कोरोना प्रोटोकाल के साथ सुचारु रूप से चलाया गया। खेती बाड़ी सुचारु रूप से चलती रही, ट्रांसपोर्टेशन की सुविधाएं जारी रहीं सब्जी मंडी व फल मंडी खुले रहे, आवश्यक वस्तुओं से संबंधित दुकानें निरंतर चलते रहीं।

यह भी पढ़ें: यूपी में देर रात 3 जिलों के DM बदले गए, प्रयागराज से भानु चंद्र गोस्वामी हटाए गए

सरकारी कार्यालय बंद नहीं किए गए बल्कि एक तिहाई वर्कर्स को कोविड प्रोटोकाल का पालन कराते हुए रोटेशनल सिस्टम से कार्य करने की सुविधा जारी रही। सभी उद्यम इकाइयों की कोविड हेल्प डेस्क औऱ कोविड केयर सेंटर के साथ आर्थिक गतिविधियां जारी रखने में सफलता प्राप्त की। WHO , नीति आयोग और मुंबई हाई कोर्ट ने की सराहना।

यह भी पढ़ें: History of Today: जानिए इतिहास के पन्नों में दर्ज 5 जून की Historical घटनाएं

Related Articles