अपराध जगत का वो ‘बादशाह’ जिसपर है डॉन श्रीप्रकाश शुक्ला से ज्यादा का इनाम, UP पुलिस आज तक नहीं पकड़ सकी

डॉन श्रीप्रकाश शुक्ला से भी अधिक के इनाम वाले अपराधी को नहीं पकड़ सकी पुलिस

आए दिन योगी सरकार अपराधियों के खिलाफ बुल्डोजर चलाने से लेकर ताबड़तोड़ एनकाउंटर की कार्रवाई करती रहती है. इसी बीच एक अपराधी ऐसा है जिसे योगी पुलिस अभी तक छु तक नहीं सकी है. फिलहाल वह कहां है और क्या कर रहा है, इसकी पुलिस को जानकारी तक नहीं है. पुलिस के पास कुछ है तो वह सिर्फ राघवेंद्र की इंटरनेट पर मौजूद एक मात्र फोटो. जिससे उसे पकड़ने के लिए उसे पहचान पाना भी मुश्किल होगा. बता दें योगी सरकार की यूपी पुलिस गोरखपुर के झंगहा के रहने वाले शातिर बदमाश राघवेंद्र की साढ़े चार में परछाई भी नहीं छू सकी. 2.5 लाख के इनामी शातिर राघवेंद्र का नाम यूपी के टॉप-2 मोस्ट वांटेड की लिस्ट में शामिल है. बावजूद इसके उसकी गिरफ्तारी तो दूर, पुलिस और एसटीएफ उसका सुराग तक नहीं लगा सकी है.

पुलिस ने सिर्फ अपराधी पर इनाम बढ़ाया

अपराध जगह का बादशाह राघवेंद्र यादव गोरखपुर के झंगहा इलाके ​के सुगहा गांव में चार हत्याओं का आरोपित है. वह 5 साल से पुलिस को चकमा देकर फरार चल रहा है. लेकिन इन 5 साल में पुलिस उसका सुराग नहीं लगा सकी है. इस बीच अगर पुलिस ने कुछ किया है तो वह यह कि सिर्फ राघवेंद्र पर इनाम बढ़ाकर उसे यूपी के टॉप-2 अपराधियों की लिस्ट में शामिल कर देना. जबकि उधर, हत्यारोपित से बदला लेने और उसकी गिरफ्तारी की आस में अभी तक मृतकों के परिवार ने अपने मृतकों का तरहवीं तक नहीं किया है. बदमाशों पर कहर बनकर टूटने वाली पुलिस का राघवेंद्र पर मेहरबानी का आलम कुछ ऐसा है कि गिरफ्तारी तो दूर, पुलिस अबतक राघवेंद्र के घर की कुर्की की कार्रवाई तक नहीं कर सकी है

डॉन श्रीप्रकाश शुक्ला से भी अधिक है इनाम

यूपी के इस दुर्दांत अपराधी माफिया पर जितना इनाम है, उतना इनाम तो 90 के दशक के यूपी के मोस्ट वांटेड माफिया श्रीप्रकाश शुक्ला पर भी नहीं था. जबकि उसी पर शिकंजा कसने के लिए यूपी एसटीएफ का गठन हुआ. जिस वक्त श्रीप्रकाश शुकला ने तत्कालीन मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की हत्या की सुपारी ली थी, उस वक्त उसपर एक लाख रुपए का ही इनाम था. वहीं पूर्वांचल के एक और दुर्दांत अपराधी व रंगदारी किंग चंदन सिंह पर भी महज 1 लाख तक का ही इनाम रहा है.

यह भी पढ़ें- ‘खलनायक’ बना UP पुलिस का नायक, जानें कैसे

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles