यूपी: विवेचना के नाम पर पुलिस कर रही हीलाहवाली

चित्रकूट: एक तरफ जहां योगी सरकार प्रदेश में जीरो टॉलरेंस की नीति की बात करती है। तो वहीं दूसरी तरफ प्रशासन उनकी नीति की मट्टी पलीत करने में जुटी हुई है। सरकार भले ही प्रदेश की कानून व्यवस्था पर अपनी पीठ थपथपा रही हो। लेकिन प्रशासन अपनी कार्यशैली से सरकार के कानून व्यवस्था के दावे को खोखला साबित कर रही है।

ऐसा ही एक मामला चित्रकूट से सामने आया है। जहां बीते 28 सितंबर को जेई पर जानलेवा हमला करने वाले आरोपी खुलेआम घूम रहे हैं। वहीं प्रशासन गहरी नींद में सो रही है। इस मामले से जुड़ा एक भी आरोपी अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है। इससे पुलिस की मंशा पर सवालिया निशान खड़े हो गए हैं।

बता दें कि राजापुर थाना क्षेत्र के सुरसेन गांव में बन रही पानी की टंकी के निर्माण कार्यों का जयजा लेने जलनिगम के अवर अभियंता शशिकांत पहुंचे थे। आरोप है कि निरीक्षण के दौरान एक युवक ने रंगदारी की मांग करते हुए अभद्रता कर उनके साथ मारपीट की थी। इसके बाद जब वो निर्माण कार्यों का जायजा लेकर वापस आने लगे तो रास्ते में रोककर 3 लोगों ने मारपीट करते हुए 5 हजार रुपए छीन लिए।

इस मामले में जेई की तहरीर के आधार पर 3 लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कराया था। लेकिन अभी तक किसी भी आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर धरना

जल निगम जेई पर हुए हमले के आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं होने से अभियंता खासे नाराज है। जिसको लेकर डिप्लोमा इंजीनियर महासंघ के बैनर तले गिरफ्तारी को लेकर कार्य बहिष्कार कर प्रदर्शन कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें: सपा के नेता और बेटे पर की फायरिंग रिश्तेदारों ने, दो लोगों की गिरफ्तारी

Related Articles