UP Polls: मायावती ने की चुनाव से 6 महीने पहले मीडिया संगठनों के सर्वे पर रोक लगाने की मांग

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने शनिवार को कहा कि वह चुनाव आयोग को पत्र लिखकर मीडिया संगठनों और अन्य एजेंसियों के सर्वेक्षण पर किसी भी चुनाव से 6 महीने पहले प्रतिबंध लगाने की मांग करेंगी ताकि विशेष राज्य में चुनाव इससे प्रभावित न हों। बसपा संस्थापक कांशीराम की 15वीं पुण्यतिथि पर कांशीराम स्मारक स्थल पर संबोधित करते हुए मायावती ने मांग की कि दिवंगत दलित नेता को भारत रत्न दिया जाए और कहा कि उत्तर प्रदेश के लोगों ने राज्य में सत्ता बदलने का मन बना लिया है।

कांशीराम की 15वीं पुण्यतिथि पर किया चुनावी शंखनाद

मायावती ने कहा, “जल्द ही चुनाव आयोग को एक पत्र लिखा जाएगा कि व्यापार की आड़ में, मीडिया संगठनों और अन्य एजेंसियों द्वारा चुनाव से छह महीने पहले सर्वेक्षण पर प्रतिबंध लगा दिया जाए ताकि विशेष राज्य में चुनाव प्रभावित न हों।”

बसपा प्रमुख ने जनता से कहा, “आप जानते हैं कि जब पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव चल रहे थे, सर्वेक्षण दिखा रहे थे कि ममता बनर्जी पीछे चल रही हैं, लेकिन जब परिणाम आए, तो यह विपरीत था। जो सत्ता पाने का सपना देख रहे थे, उनके सपने चकनाचूर हो गए, और ममता बनर्जी ने भारी बहुमत के साथ वापसी की। इसलिए, आपको इन सर्वेक्षणों से गुमराह नहीं होना चाहिए।”

मायावती की टिप्पणी एक सर्वेक्षण में एक समाचार चैनल द्वारा दिखाए जाने के एक दिन बाद आई है, जिसमें दिखाया गया है कि भाजपा आगामी 2022 के विधानसभा चुनावों में UP में सबसे अधिक सीटें जीतने और सत्ता बरकरार रखने के लिए तैयार है। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकारें अपने पक्ष में माहौल बनाने के लिए राज्य मशीनरी का इस्तेमाल कर रही हैं।

बसपा सुप्रीमों ने कहा “यह भी सभी को पता है कि जब ये हथकंडे काम नहीं करेंगे, तो वह पार्टी भाजपा अंततः चुनाव को हिंदू-मुस्लिम रंग देगी, और इसकी आड़ में पूरा राजनीतिक फायदा उठाने की कोशिश करेगी। इसी को ध्यान में रखते हुए चुनाव लड़ा जाना है।

कर सकती है गठबंधन

मायावती ने किसी पार्टी का नाम लिए बगैर यह भी कहा, ”छोटी पार्टियां और संगठन हैं, जो अकेले या संयुक्त रूप से चुनाव लड़ सकते हैं। उनका काम चुनाव जीतना नहीं है, बल्कि सत्ताधारी पार्टी को पर्दे के पीछे से फायदा पहुंचाना है। अपने निहित स्वार्थ का एहसास करें। इसलिए, इन जातियों और समुदायों के लोगों को इन पार्टियों और संगठनों के प्रभाव में नहीं आना चाहिए।”

यह भी पढ़ें: बेटे ने बना दिया पिता को करोड़पति, मामला जानकर उड़ेंगे होश

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles