उप्र : सपा-बसपा के महागठबंधन को मिला इन पार्टियों का साथ, कांग्रेस…

0

लखनऊ। आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर उत्तर प्रदेश में भाजपा के खिलाफ समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के गठबंधन को लेकर काफी चर्चाएं हो रही हैं। आपको बता दें कि सिर्फ यही दो पार्टियां ही नहीं बल्कि कई और पार्टियां इस महागठबंधन से जुड़ने की दावेदारी कर रही हैं। सिर्फ पार्टियां ही नहीं, सपा और बसपा भी ये गठबंधन चाहती हैं। फिलहाल कांग्रेस का अभी कुछ पता नहीं चला है, लेकिन राष्ट्रीय लोकदल इस महागठबंधन में सपा-बसपा के साथ शामिल होती दिख रही है।खबरों के मुताबिक माना जा रहा है कि कांग्रेस की अनुपस्थिति में रालोद को उसकी जगह शामिल कर पश्चिम उत्तर प्रदेश की अहम सीटें महागठबंधन की तरफ दिया जा सकत है। वहीं पूर्वी उत्तर प्रदेश से निषाद पार्टी, पीस पार्टी और कृष्णा पटेल की अपना दल भी इस महागठबंधन में अहम भूमिका निभाने की तैयारी में हैं।

इतना ही नहीं सपा और बसपा के बाद इस महागठबंधन की सबसे बड़ी और मजबूत पार्टी राष्ट्रीय लोकदल की मानी जा रही है। राष्ट्रीय लोकदल की गठबंधन में मजबूत दावेदारी तब मानी जाने लगी जब कैराना लोकसभा उपचुनाव में महागठबंधन की तरफ से रालोद की तबस्सुम हसन ने बीजेपी से सीट छीनी थी।

कांग्रेस की बात करें तो यहां उसके लिए सिर्फ रायबरेली और अमेठी सीट ही छोड़ने की बात सामने आ रही है। वहीं राष्ट्रीय लोकदल को सपा बेहतर सीट देने की इच्छुक दिख रही है। सपा नेता का कहना हैं कि पश्चिम उत्तर प्रदेश में जाट समुदाय रालोद से कहीं न कहीं अपना जुड़ाव महसूस करता है।

उधर गठबंधन को लेकर पिछले दिनों राष्ट्रीय लोकदल के प्रमुख जयंत चौधरी ने कहा कि हम चाहते हैं कि लोकसभा चुनाव में सपा, बसपा, कांग्रेस और रालोद मिलकर चुनाव लड़ें, लेकिन अभी ज्यादा कुछ कहना जल्दबाजी होगी। गठबंधन को लेकर पार्टी नेतृत्व की कोई सामूहिक बैठक नहीं हुई है। अगर चारों पार्टियां मिलकर चुनाव लड़ती हैं तो सीटों का बंटवारा कैसे होगा, किस पार्टी को कितनी सीटें और कौन-कौन सी सीटें मिलती हैं, इन विषयों पर चर्चा होगी। इसके बाद ही गठबंधन की स्थिति साफ हो पाएगी।

loading...
शेयर करें