जबरन हिन्दू से मुसलमान बनाने वाले दो लोगों को UP ATS ने दबोचा, 1000 का कराया अबतक धर्मपरिवर्तन

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में एंटी टेरर स्क्वाड ATS ने धर्म परिवर्तन को लेकर बड़ी कार्रवाई की है. बता दें प्रदेश में जबरन धर्मांतरण कराना कानूनन अपराध है और इसे तोड़ने वालों पर लगातार कार्रवाई भी हो रही है. इसी को लेकर UP ATS ने एक ऐसे गिरोह का भंडाफोड़ किया है, जो बड़े पैमाने पर जबरन धर्म परिवर्तन करा रहा था. ATS ने गिरोह के 2 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। ADG लॉ एंड ऑर्डर (L/O) प्रशांत कुमार ने सोमवार को जानकारी दी है. ATS की ओर से बताया गया है कि अवैध रुप से धर्मांतरण करने वाले गिरोह को पकड़ा है, जो सुनियोजित तरीके से पैसे और प्रलोभन देकर धर्म परिवर्तन करवाता है.

धर्मांतरण कर देश का सौहार्द बिगाड़ने के लिए होता है लोगों का प्रयोग

ADG लॉ एंड ऑर्डर (L/O) प्रशांत कुमार ने बताया कि ISI, विदेशी संस्थाओं और देश विरोधी असामाजिक संगठन, धार्मिक तत्वों और सिंडिकेट से निर्देश प्राप्त करके और उनसे प्राप्त फंडिंग के जरिए लोगों का धर्म परिवर्तन कराया जाता था. धर्म परिवर्तन करने वालों के मन में मूल धर्म के खिलाफ नफरत भरी जाती थी. उन्हें रेडिक्लाईज करके उनका इस्तेमाल देश के विभिन्न धार्मिक वर्गों में दुश्मनी फैलाकर देश के सौहार्द बिगाड़ने का काम किया जाता है. इस सूचना पर काम कर रही UP ATS ने 20 जून को दो व्यक्ति काजी जहांगीर और उमर गौतम को गिरफ्तार किया है.

महिलाओं का धर्मांतरण करा शादी मुसलमानों से करवाई

उनके अनुसार, उमर गौतम खुद भी धर्म परिवर्तन कर हिन्दू से मुसलमान बना है. प्रदेश के विभिन्न जिलों में गैर मुस्लिम मूक बधिर, महिलाओं बच्चों और अन्य कमजोर वर्ग के लोगों का बड़े पैमाने पर धर्म परिवर्तन करा रहा हैं. पूछताछ में उमर गौतम ने ATS को बताया कि उसने अभी तक 1000 से ज्यादा लोगों का धर्म परिवर्तन करवाया है और बड़ी संख्या में उनकी शादी मुसलमानों से करवाई है. उमर गौतम और उसके साथियों द्वारा धर्म परिवर्तन के लिए IDC (Islamic Dawah Center) कार्यालय पता- C 2, जोगाबाई एक्सटेंशन, जामिया नगर, नई दिल्ली, नाम की संस्था का संचालन किया जाता था, जिसका उद्देश्य गैर मुस्लिम लोगों का धर्म परिवर्तन करवाना था.

स्कूल के छात्रों का भी कराया धर्मांतरण

ADG प्रशांत किशोर ने बताया कि इस काम के लिए इनकी संस्था के खाते में और अन्य माध्यम से भी भारी मात्रा में पैसे आए थे. इस काम के लिए विदेशी फंडिंग भी होती थी. ये लोग धर्मांतरण से सम्बंधित प्रमाण पत्र और विवाह के प्रमाण पत्र भी गैर कानूनी रूप से तैयार करवाते थे. ये भी प्रकाश में आया है कि Noida Deaf Society नोएडा सेंटर, सेक्टर 117, जनपद गौतमबुद्ध नगर, जो कि मूक बधिर छात्रों का रेजिडेंशियल स्कूल है, इस स्कूल और अन्य मूक बधिर स्कूल के छात्रों का भी धर्मांतरण हुआ है.

ये भी पढ़ें : विश्व को मिलने जा रही है M-Yoga App की शक्ति, जानें इसकी खासियत

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles