#upelections2017 Live : पांचवे चरण में 57 फीसद वोटिंग

0

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पांचवें चरण का मतदान सोमवार को सुबह सात बजे शुरू हो गया। मतदान केंद्रों पर मतदाता अपने हाथ में पहचानपत्र लिए कतारों में खड़े अपनी बारी की प्रतीक्षा में हैं। अधिकांश जगह कतारों में पुरुषों और महिलाओं की संख्या लगभग बराबर है। इस चरण में 51 निर्वाचन क्षेत्रों में 617 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला होगा। कुल 1.84 करोड़ से अधिक मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे।  निवार्चन आयोग के मुताबिक, 5 बजे तक 57 फीसदी मतदान हो चुका है।

पांचवें चरण का मतदान

पांचवें चरण का मतदान शुरू, 43 महिला उम्मीदवार चुनावी मैदान में

#upelections2017 के पांचवें चरण के तहत 11 जिलों के 51 निर्वाचन क्षेत्रों में 43 महिला उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। ये जिले हैं- बहराइच, बस्ती, बलरामपुर, गोंडा, संत कबीरनगर, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, सुल्तानपुर, फैजाबाद और अमेठी। अंबेडकरनगर की अलापुर निर्वाचन क्षेत्र में 27 फरवरी को ही मतदान होना था, लेकिन समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार की मौत के बाद चुनाव स्थगित कर कर दिया गया है। इस सीट पर मतदान अब आठ मार्च को होगा।

निर्वाचन आयोग के अधिकारियों के मुताबिक, #upelections2017 में शांतिपूर्ण मतदान के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। मतदान शाम पांच बजे तक चलेगा।पांचवें चरण के मतदान में अपने मताधिकार का प्रयोग करने वाले मतदाताओं में 99.50 लाख पुरुष और 85 लाख महिलाएं हैं। इसके साथ ही 946 थर्ड जेंडर मतदाता हैं। इस चरण में भी मुख्य मुकाबला समाजवादी पार्टी-कांग्रेस गठबंधन, बहुजन समाज पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के बीच है।

सबसे रोचक मुकाबला अमेठी में है, जहां कांग्रेस नेता संजय सिंह की दोनों पत्नियां मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति का रास्ता रोकने के लिए खड़ी हैं। संजय सिंह की पहली पत्नी गरिमा सिंह जहां भाजपा के टिकट पर मैदान में हैं, वहीं दूसरी पत्नी अमिता सिंह गठबंधन को दरकिनार करते हुए कांग्रेस से चुनाव लड़ रही हैं। अमेठी के अलावा दूसरी सबसे चर्चित सीट अयोध्या की है। यहां पर सपा नेता व मंत्री पवन पांडेय इस बार फिर प्रत्याशी हैं। बसपा से बज्मी सिद्दीकी और भाजपा से वेद प्रकाश गुप्ता चुनाव मैदान में हैं।

इस चरण में सर्वाधिक 43 करोड़ करोड़पति उम्मीदवार बसपा की ओर से हैं। भाजपा के 38, सपा के 32 और कांग्रेस के सात करोड़पति उम्मीदवार मैदान में हैं। साथ ही 14 करोड़पति निर्दलीय उम्मीदवार भी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। 51 सीटों पर चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों में से 285 स्नातक, 38 शिक्षित और नौ अनपढ़ हैं।

साल 2012 के विधानसभा चुनाव में सपा को 51 में से 37 सीटें मिली थीं। बसपा ने तीन, भाजपा ने पांच, कांग्रेस ने पांच और पीस पार्टी ने दो सीटों पर जीत दर्ज की थी।

loading...
शेयर करें