UP का पहला साइबर गैंग आजमगढ़ में रजिस्टर , 24 हाइटेक अपराधियों की खुलेगी हिस्ट्रीशीट, गैंगस्टर की तैयारी

आजमगढ़. आपने खूंखार अपराधियों, हत्यारों, डकैतों का गैंग  थानों में रजिस्टर होते सुना होगा लेकिन अब यूपी (UP) में पहला साइबर अपराधियों का गैंग  रजिस्टर किया गया है. दरअसल उत्तर प्रदेश की आजमगढ़  की दीदारगंज पुलिस ने एटीएम की क्लोनिंग और कार्ड बदलकर बैंकों से पैसा निकालने वाले अन्तर्जनपदीय गिरोह के 5 शातिर साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया है. इनसे पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला कि गैंग में 24 लोग शामिल हैं. ये आजमगढ़ और जौनपुर के युवा हैं, जो साइबर अपराध में शामिल हैं. मामले में एसपी आजमगढ़ प्रोफेसर त्रिवेणी सिंह (SP Prof Triveni Singh) के निर्देश पर उत्तर प्रदेश में पहले साइबर अपराधी गैंग के रूप में इन्हें रजिस्टर कर लिया गया है. अब इस गैंग के सभी सदस्यों की हिस्ट्रीशीट खोले जाने के साथ ही गैंगस्टर और कुर्की की कार्रवाई होगी.

14 बार साइबर क्राइम में जेल गया गैंग लीडर नवीन गौतम

आजमगढ़ के एसपी त्रिवेणी सिंह ने बताया कि नवीन गौतम गैंग का लीडर है, ये 14 बार साइबर क्राइम केस में जेल जा चुका है. आज हमने 5 लोगों को गिरफ्तार किया है, जिनसे पता चला है कि आजमगढ़ और जौनपुर के 24 लड़के इस गैंग में शामिल हैं. ये सभी नई उम्र के पढ़े-लिखे नौजवान हैं. अब इन सभी की हिस्ट्रीशीट खोली जाएगी और सभी पर गैगस्टर लगाकर इनकी प्रॉपर्टी कुर्क की जाएगी. एसपी ने बताया कि इनका इंटर रेंज गैंग खोला जा रहा है, क्योंकि ये गैंग आजमगढ़ और वाराणसी दो रेंजों में ऑपरेट कर रहा है. एसपी ने बातया कि ये साइबर क्रिमिनल्स का पहला गैग रजिस्टर्ड है.

एसपी ने थाना, एसओजी और साइबर टीम को दिया ईनाम

उधर इस गिरफ्तारी के बाद एसपी ने पुलिस टीम को 25 हजार रुपए का इनाम दिया है. पुलिस टीम में थानाध्यक्ष धर्मेन्द्र कुमार सिंह, दीदारगंज, एसआई अखिलेश चन्द्र पाण्डेय, एसआई जावेद अख्तर, इंस्पेक्टर एसओजी आनन्द कुमार सिंह, कांस्टेबल दिलीप पाठक, औरंगजेब खां, मनीष कुमार सिंह, अनीता कुमारी, शीला चौरसिया शामिल हैं.

ऐसे खुला मामला

दरअसल आजमगढ़ सहित यूपी के विभिन्न जिलो में एटीएम कार्ड की क्लोनिंग तथा एटीएम कार्ड बदलकर मासूम जनता के बैंक खाते से पैसा निकालने की शिकायतें काफी दिनों से लगातार मिल रही थीं. मामले में पुलिस अधीक्षक आजमगढ़ प्रो त्रिवेणी सिंह ने पुलिस अधीक्षक अपराध सुधीर जायसवाल और क्षेत्राधिकारी सदर मो अकमल खां के नेतृत्व में साइबर सेल व स्वाट प्रभारी व थानाध्यक्ष दीदारगंज को गैंग का खुलासा और गिरफ्तारी करने के लिए लगाया गया था.

5 संदिग्ध हुए गिरफ्तार

आज 17 जून को पुलिस ने सुरहन तिराहे पर 5 संदिग्ध व्यक्तियों को पकड़ने की कोशिश की तो वे भागने लगे. इन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. पूछताछ में पता चला कि ये आजमगढ़ का नवीन गौतम पुत्र सोचन गौतम, शिवम, सिकंदर राजभर, अविनाश और जौनपुर का रहने वाला प्रवेश है. इनके पास से पुलिस ने 12 एटीएम कार्ड बरामद किए, वहीं प्रवेश के पास से एक तमंचा और कारतूस भी बरामद हुआ.

कार्ड क्लोनिंग और एटीएम फ्रॉड के माहिर खिलाड़ी निकले

पूछताछ में इन्होंने बताया कि ये बैंकों के खाताधारकों का एटीएम कार्ड बदलकर व कार्ड की क्लोनिंग कर उनका पैसा निकाल लेते हैं और हिस्सा बांट लेते हैं. पहले ये एटीएम के बाहर खड़े होकर रैकी करते हैं, फिर गमछा बांधकर ग्राहक के पीछे एटीएम लाइन में खड़े हो जाते हैं. इसके बाद मदद करने के बहाने कार्ड बदल लेते हैं और ग्राहक के पासवर्ड देखकर एटीएम से पैसे निकाल लेते हैं.

Related Articles