UP के IAS अखिलेश मिश्रा बेच रहे सब्जी, जानिए क्या है माजरा

प्रशासनिक क्षेत्र में जिस आईएएस अफसर का बोलबाला होता है। समाज में अलग ही पहचान होती है।

लखनऊ: क्या कभी किसी आईएएस को अपने सड़क पर सब्जी बेचते देखा है। यूपी में IAS अखिलेश मिश्र का इन दिनों फेसबुक पर उनके द्वारा डाला गया एक पोस्ट काफी वायरल हो रहा है जिसमें वह सब्जी बेचते नजर आ रहे हैं। प्रशासनिक क्षेत्र में जिस आईएएस अफसर का बोलबाला होता है। समाज में अलग ही पहचान होती है। लेकिन उसी आईएएस अफसर को अगर सब्जी बेचने को मजबूर होना पड़े तो इसके पीछे उसका शौक है या फिर मजबूरी।

आखिर क्या वजह है कि यूपी की सड़कों पर एक आईएएस अफसर जो ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट में विशेष सचिव के पद पर तैनात हो उसे सब्जी बेचने को मजबूर होना पड़ गया। बता दें कि IAS अखिलेश मिश्र इन दिनों ट्रांसपोर्ट विभाग में विशेष सचिव हैं। पिछले दिनों उन्होंने सब्जी बेचते फेसबुक पर अपनी कुछ तस्वीरें पोस्ट कीं। दुकान पर सब्जी बेचते अखिलेश मिश्रा ने फेसबुक पर फोटो डालकर कैप्शन भी लिखा है ‘..टमाटर ₹20 किलो, छांट लो’.

 

इसके बाद ये तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो गई हैं। इसी बीच उन्हें अपनी इस भूल का अंदाजा हुआ और फेसबुक पोस्ट से उन्होंने अपनी सभी तस्वीरों को डिलीट कर दिया। हालांकि जब तक ये तस्वीरें उनकी फेसबुक पोस्ट से डिलीट होतीं, तब तक यह वायरल हो गईं। अब आईएएस अफसर फोन पर जवाब देते परेशान हैं। IAS अखिलेश मिश्रा ने सब्जी बेचते हुए फोटो पर अपनी सफाई भी पेश कर दी है।

IAS अखिलेश मिश्रा ने दिया बयान

विशेष सचिव अखिलेश मिश्रा ने मिडिया से बात कैरट हुए बताया, ‘मैं कल सरकारी कार्य से प्रयागराज गया था। वापस आते समय एक स्थान पर सब्ज़ी देखने के लिए रुक गया। सब्ज़ी विक्रेता एक वृद्ध महिला थी जिसने मुझसे अनुरोध किया कि मैं उसकी सब्ज़ी पर नज़र रखूं।

वो एक पल में आती है। सम्भवतः उसका बच्चा दूर चला गया था। मैं यूं ही उसकी दुकान पर बैठ गया, इस बीच कई ग्राहक और वो सब्ज़ी विक्रेता महिला आ ग। उसी दौरान मेरे एक परम मित्र ने फ़ोटो खींची। मज़ाक़ में मेरे ही फ़ोन से फ़ेसबुक पोस्ट बना दी और रात में पोस्ट कर दी। जब मैंने स्वयं आज देखा तो फौरन ही उसे हटा दिया।’ बता दें कि अखिलेश मिश्र काफी जीवट व्यक्ति हैं। यही वजह है कि आम लोगों से जुड़ने और उनकी समस्याओं का समाधान करने में काफी सक्रिय रहते हैं। वे साहित्यक और समसामयिक परिचर्चाओं में भी शामिल होते रहते हैं।

यह भी पढ़ें: पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के नाम पर होगा कैंसर संस्थान, मेडिकल कॉलेज

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles