यूपीएससी-एसएससी-आरआरबी का एक बड़ी एजेंसी में हो सकता है विलय

0

नई दिल्ली: सरकार सरकारी नौकरी देने में फेर-बदल करने की सोच रही है. इसका स्टूडेंट्स पर कैसा प्रभाव पड़ेगा. क्या सरकारी नौकरी मिलना सरल हो जायेगा या इससे भी कठिन होगी नौकरी पाना. आने वाले कुछ वर्षो में सरकारी नौकरी लेने का पूरा सिस्टम ही बदल दिया जा सकता है. सरकार एक ऐसी ही तैयारी कर रही है. जो हर ग्रेड की परीक्षाएं एक ही एजेंसी के द्वारा ली जा सकें. इसके साथ ही वह पुरे साल होने वाली परीक्षाओं का कलेंडर भी जरी करेगी.

बता दें की परीक्षा के लिए सिंगल विंडो का ऐप भी तैयार होगा. जिससे सभी स्टूडेंट्स अपने मोबाइल से ही इससे जुड़ जाये. उन्हें सरकारी परीक्षा से जुडी हर एक सूचना का अपडेट मिलता रहे. सरकार का मन्ना है कि इससे करोड़ो स्टूडेंट को दिक्कतों से राहत मिलेगी.

पांच गोल्ड मैडल जीतने वाली हिमा दास को देश दे रहा बधाई

डीओपीटी को मिली रिपोर्ट के अनुसार यूपीएससी जैसी परीक्षाओं में ऑप्शनल सब्जेक्ट को हटाकर उसकी जगह प्रेक्टिकल एग्जाम पर अधिक फोकस दिया जायेगा. यह प्रक्रिया साल के अंत तक लागू हो सकती है.

अब विद्यार्थी भर सकेंगे सभी परीक्षाओं के लिए एक साथ फॉर्म

सरकार की इस योजना में फॉर्म भरने की प्रक्रिया सेंट्रलाइज हो. इसमें साल भर होने वाली परीक्षा की सूचना एक ही जगह पर दी जाएगी. जिससे सभी स्टूडेंट एक साथ इन सभी परीक्षाओं के लिए आवेदन कर सकेंगेइसके साथ ही अपनी योग्यता के अनुसार अपनी पसंद का चुनाव करेंगे. स्टूडेंट सभी परीक्षा के लिए एक साथ ही फी भी भर सकेंगे. सरकार ने परीक्षा लेने वाली एजेंसी को इसी के अनुरूप कैलेंडर बनाने को कहा है.

loading...
शेयर करें