UPSTF को मिली बड़ी कामयाबी, मुठभेड़ में मुन्ना बजरंगी के खास रहे दो शार्प शूटर ढ़ेर

कुख्यात अपराधी और माफिया मुन्ना बजरंगी और दिलीप मिश्रा के दो शार्प शूटर गुर्गों को प्रयागराज में STF ने एनकाउंटर में मार गिराया है। जानकारी के अनुसार दोनों मारे गए बदमाश भदोही के रहने वाले थे।

प्रयागराज: उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फाॅर्स UPSTF को बड़ी कामयाबी मिली है। कुख्यात अपराधी और माफिया मुन्ना बजरंगी और दिलीप मिश्रा के दो शार्प शूटरों को प्रयागराज में UPSTF ने एनकाउंटर में मार गिराया है। जानकारी के अनुसार दोनों मारे गए बदमाश भदोही के रहने वाले थे। शार्प शूटर वकील पांडेय उर्फ़ रजीव पांडेय पर 50000 का इनाम था वहीँ अमजद उर्फ़ अंगद भी कुख्यात बदमाश था। अमजद पर भी 24 से ज्यादा संगीन मुक़दमे दर्ज थे। ख़बरों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक ये दोनों शूटर पहले मुख्तार अंसारी और मुन्ना बजरंगी के लिए काम करते थे, मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद दोनों फतेहगढ़ जेल में बंद माफिया दिलीप मिश्रा से जुड़ गए थे और उसके इशारों पर आपराधिक घटनाओं को अंजाम दे रहे थे।

UPSTF के मुताबिक एनकाउंटर में ढ़ेर हुए दोनों शार्प शूटर की लम्बी आपराधिक हिस्ट्री रही है। दोनों अपराधी लम्बे समय हत्याएं और रंगदारी को अंजाम दे रहे थे। 2013 में वाराणसी में डिप्टी जेलर अनिल कुमार त्यागी की हत्या का आरोप भी इन्ही दोनों पर था। एसटीएफ प्रयागराज यूनिट के सीओ नवेन्दु सिंह ने बताया कि दोनों अपराधियों का लंबा अपराधिक इतिहास है।

UPSTF की फायरिंग में दोनों बदमाशों को लगी गोली

STF को जानकारी मिली थी कि दोनों कुख्यात प्रयागराज में किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फ़िराक में हैं, तभी मुखबिर से सूचना मिली की बदमाश प्रयागराज में नैनी अरैल इलाके में हैं, इसी दौरान STF की टीम ने छापेमारी शुरू की तभी दोनों ने STF टीम को देखते ही फायर झोंक दिया। जिसमें STF की तरफ से जवाबी फायरिंग में दोनों बदमाशों को गोली लगी और दोनों को घायलावस्था में अस्पताल लाया गया जहां डॉक्टरों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया दोनों के कब्जे से 9mm की पिस्टल और 30 जिंदा कारतूस भी बरामद हुए हैं। मौके से मोटर साइकिल भी बरामद हुई है।

विधायक विजय मिश्रा ने भी बताया था अपनी जान का खतरा

बता दें कि एनकाउंटर में मारे गए शार्प शूटर राजीव पांडेय से भदोही से बाहुबली विधायक विजय मिश्रा ने भी अपनी जान का खतरा बताया था। उन्होंने गृहमंत्री अमित शाह को इसके लिए पत्र भी लिखा था। उन्होंने आशंका जताई थी कि राजीव पांडे के जरिए उनकी हत्या कराई जा सकती है। इतना ही नहीं राजीव पांडे पर झारखंड समेत अलग-अलग प्रदेशों में भी हत्या जैसी वारदातों को अंजाम देने का आरोप है। फिलहाल STF प्रयागराज यूनिट ने मुठभेड़ में दोनों को मार गिराया है।

Related Articles