टिकट टू अमेरिका और महंगा, एच-1बी वीजा अब 4000 डॉलर का

0

us visa

नई दिल्ली। अमेरिकी सांसदों ने 18 खरब डॉलर के एक पैकेज को पारित किया है। इसके साथ ही एच-1बी वीजा पर 4000 डॉलर का भारी भरकम शुल्क भी लगाया है, इस विधयेक से भारतीय आईटी कंपनियों को बड़ा झटका लगा है।

भारतीय आईटी कंपनियों  के लिए यह विधेयक झटके वाला है क्योंकि उन्हें एच-1बी वीजा के लिए आवेदन करते हुए लाखों डॉलर रूपये देने होंगे। वे अमेरिका में कुशल आईटी कर्मियों से काम कराने के लिए इस कामकाजी वीजा पर काफी निर्भर रहते हैं। विधेयक के अनुसार उन्हें एच-1बी वीजा के लिए अतिरिक्त 4000 डॉलर और एल1 वीजा के लिए 4500 डॉलर चुकाने होंगे।

वहीं, पाकिस्तान को अमेरिकी सहायता पर कड़ी शर्तें लगाने का फैसला भी किया गया है। विधेयक में 11 खरब डॉलर का व्यय 30 सितंबर, 2016 तक सरकार के लिए है और 680 अरब डॉलर का कर पैकेज है। इसे अब राष्ट्रपति बराक ओबामा की मंजूरी के लिए व्हाइट हाउस भेजा गया है और वह जल्द ही इसे मंजूर कर कानून  का रूप दे सकते हैं।

loading...
शेयर करें