हार के बावजूद उसेन बोल्ट ने खुद को बताया इतिहास का सर्वश्रेष्ठ एथलीट

लंदन| जमैका के फर्राटा धावक उसेन बोल्ट ने अपने करियर पर विराम लगाते हुए संन्यास ले लिया है। उन्होंने लंदन में शनिवार को आयोजित IAAF वर्ल्ड ऐथलेटिक चैंपियनशिप (WAC) में 100 मीटर रेस में दौड़ने के बाद संन्यास लिया। इस रेस में बोल्ट ने तीसरा स्थान हासिल करते हुए ब्रॉन्ज मेडल से संतुष्टि करनी पड़ी।

also read: बचपन के दोस्त और पूर्व क्रिकेटर संग मास्टर ब्लास्टर ने कुछ इस तरह मनाया #FriendshipDay

मगर इसके बावजूद बोल्ट का कहना है कि वह अब भी इतिहास के सर्वश्रेष्ठ एथलीट हैं। शनिवार को आयोजित हुई इस रेस में अमेरिका के 35 वर्षीय धावक जस्टिन गैटलिन ने बोल्ट को पछाड़ते हुए स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया। इसके अलावा, गैटलिन के हमवतन 21 वर्षीय क्रिस्टियन कोलेमन ने रजत पदक जीता।

‘द गार्जियन’ की रिपोर्ट के अनुसार, रेस के बाद एक बयान में बोल्ट ने कहा, “मैंने विश्व को दिखाया है कि मैं सर्वकालिक महान एथलीटों में से एक हूं। मुझे नहीं लगता कि इस एक हार से कुछ भी बदलेगा। मैंने अपने प्रयासों से एथलेटिक्स जैसे खेल को ऊपर उठाया है और इसे अन्य खेलों के समक्ष बेहतर रूप से प्रदर्शित किया है। मैं निराश नहीं हो सकता।”

also read: संन्यास लेने से पहले आखिरी रेस में थक गए उसेन बोल्ट, तीसरे स्थान पर रहे

बोल्ट ने कहा, “मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ दिया। स्टेडियम में आए दर्शकों ने मेरा समर्थन किया और मुझे प्रोत्साहित किया।” विश्व चैम्पियन बने गाटलिन की प्रशंसा करते हुए बोल्ट ने कहा, “मैंने उन्हें जीत की बधाई दी। इस रेस में वह बेहतर एथलीट रहे।”

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button