UP: खाकी की आड़ में जनता को करते थे परेशान, इन पुलिसकर्मियों का जल्द हो सकता है निलंबन

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (UP) की सख्त योगी सरकार ने घूसखोर नेपाल सिंह समेत तीन अन्य पुलिसकर्मियों पर लोगों पर फर्जी मुकदमा लिख जेल भेजने के मामले का संज्ञान लिया है l यही नहीं चारों के साथ वही हुआ है जो वे वर्दी की आड़ में दूसरों के साथ करते थे l जल्दी ही चारों निलंबित भी हो सकते हैं l

सीतापुर रोड स्थित गल्ला मंडी के चौकी इंचार्ज दरोगा नेपाल सिंह, दरोगा वीर भान सिंह, सिपाही पंकज राय और मिथिलेश गिरी के खिलाफ हुई एक जाँच में ये सामने आया है कि ये लोग एक व्यक्ति को बार बार गलत मुकदमो में फसा कर जेल भेज रहे थे l

सीबी सीआईडी इंस्पेक्टर ने खोला पोल

सीबी सीआईडी के ईमानदार और माने जाने इंस्पेक्टर आज़ाद सिंह केसरी ने जांच में पाया की इन चारों ने 2018 में त्रिवेणी नगर निवासी मनीष मिश्रा और उनके नौकर के खिलाफ संगीन मुकदमे दर्ज किए और जेल भेज दिया l

जेल से निकलने के बाद मनीष ने इसकी शिकायत तत्काल विशेष सचिव गृह अमिताभ त्रिपाठी से की। त्रिपाठी ने मामले का संज्ञान लेते हुए इसकी जाँच तुरंत सीबी सीआईडी को सौंप दी l

जाँच में दोषी पाए जाने पर चारों पुलिस वालो पर संबंधित धाराओं के अंतर्गत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है l जल्दी ही चारों निलंबित भी हो सकते हैं l

वर्दी की आड़ में जनता से दबंगई

यूपी का (UP) यह मामला पुलिस की वर्दी की आड़ में आम जनता को परेशान करने वाले लोगों के लिए लिए एक सबक है l नेपाल सिंह जैसे लोग पुलिस की छवि को धूमिल करते है और जुर्म को बढ़ावा देते हैं।

इस मामले से यह भी बात सामने आती है की सिस्टम में अभी भी आज़ाद केसरी तथा अमिताभ त्रिपाठी जैसे ईमानदार लोग है जो आम जनता का कानून पर से विश्वास उठने नहीं देते l

यह भी पढ़ें: US Capitol Hill इलाके में हुई गोलीबारी, मच गया दहशत, लगा दिया लॉकडाउन

Related Articles