उत्तर प्रदेश: 25 साल की पुरानी दुश्मनी ने ली पूर्व प्रधान के बेटों की जान

उत्तर प्रदेश में हरदोई जिले के पाली क्षेत्र में पुरानी रंजिश में दो पक्षों के बीच हुई गोलीबारी में पूर्व प्रधान के दो पुत्रों की हत्या कर दी गई।

हरदोई: उत्तर प्रदेश में हरदोई जिले के पाली क्षेत्र में पुरानी रंजिश में दो पक्षों के बीच हुई गोलीबारी में पूर्व प्रधान के दो पुत्रों की हत्या कर दी गई। बताया जा रहा है कि 25 साल पहले भैयादूज के दिन हुई हत्या का बदला लेने के लिए दीपावली की रात इस वारदात को अंजाम दिया गया। जब प्रधान और पूर्व प्रधान के पक्षों के बीच कई राउंड गोलियां चली। मृतकों में एक शिक्षामित्र भी था। गोली लगने से घायल पूर्व प्रधान के पुत्रों को उपचार के लिए लखनऊ भेजा गया था जहां आज दोनों की मौत हो गई। कुछ घायलों को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भी भर्ती किया गया है। घटना के बाद पूरे गांव में तनाव को देखते हुए पुलिस बल तैनात किया गया है। पुलिस ने हत्या काण्ड में नामजद कुछ लोगों को गिरफ्तार किया है।

25 साल पुरानी दुश्मनी ने ली जान

पुलिस अधीक्षक अनुराग वत्स ने बताया कि पाली थाने के खमरिया गांव में प्रधान और पूर्व प्रधान के परिवारों में 25 साल पहले भैयादूज को हुए एक कत्ल की वारदात को लेकर पुरानी रंजिश चल रही है। इसी पुरानी रंजिश में गांव में दिवाली की रात खून की होली खेली गई है। मृतक के परिवार के एक सदस्य ने बताया कि गांव में प्रकाश का पर्व दीपावली धूमधाम से मनाया जा रहा। इसी बीच पूर्व प्रधान हरिनाम सिंह के परिवार के रिशु, अवनेंद्र, शिवांशु तीनों गांव में ही अपने ताऊ से आशीर्वाद लेने जा रहे थे। रास्ते मे ही गांव के प्रधान पति विजय सिंह का घर पड़ता है। विजय सिंह ने तीनों लड़कों को एक साथ देखकर गाली गलौज और मारपीट किया।

यह भी पढ़ें: बाराबंकी में पराली जलाने पर लेखपाल को मिली धमकी के सदमे से किसान की मौत

घाट लगाए बैठे थे आरोपी

इसकी सूचना सुनील और मुकेश उर्फ वकील को हुई तो ये दोनों अपने चचेरे भाई रिशु, अवनेंद्र, शिवांशु को बचाने पहुंचे लेकिन पहले से ही घात लगाकर बैठे प्रधान पति समेत 7 लोगों ने हरि के पुत्र सुनील और मुकेश उर्फ वकील पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दीं। घायलों को जिला अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने हालत गंभीर देखते हुए लखनऊ मेडिकल कॉलेज रिफर कर दिया जहाँ दोनों सगे भाइयों ने दम तोड़ दिया। परिवार के लोगों ने प्रधान पति समेत आशीष ,ज्ञानेंद्र, मुनेंद्र, वव्वलेश , बब्बर शेर , सोनू , उमेश के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।

इससे पूर्व खमरिया के प्रधान पति विजय सिंह यादव के चाचा संम्भू को मृतक सुनील और वकील के ताऊ नेपाल सिंह ने 1995 में फावड़े से भैयादूज वाले दिन मारा था । जिसकी रंजिश दोनों परिवारों में काफी समय से चल रही थी। उन्होंने बताया इस घटना के बाद गांव में पुलिस बल के साथ सभी ऑफिसर मौजूद है। परिवार के लोगों से बात की गई है और उन्हें आश्वस्त किया गया है इस काण्ड में शामिल सभी आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई की जायेगी। इस मामले में मुकदमा पंजीकृत करके कुछ लोगो को गिरफ्तार भी किया गया है।

यह भी पढ़ें: मासूम बच्ची के शव को दफनाने से रोकने के लिए दौड़ पड़ी चार थानों की पुलिस

Related Articles

Back to top button