विदाई के बाद DGP सुलखान सिंह को मिला तीन महीने का सेवा विस्तार

0

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) सुलखान सिंह का शुक्रवार को विदाई दी गई जिसके बाद उनकी सेवा में तीन महीने के लिए विस्तार कर दिया गया।

आपको बता दें कि प्रदेश सरकार ने सुलखान सिंह के सेवा विस्तार के लिए केंद्र को चिट्ठी लिखी थी जिसपर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मोहर लगा दी है। राज्य सरकार की तरफ से यह प्रस्ताव बीते बुधवार रात को ही केंद्र सरकार को भेज दिया गया था। हैरान करने वाली बात ये है कि विदाई समारोह होने के बाद सुलखान सिंह को भी सेवा विस्तार का आदेश मिला।  ‘

उल्लेखनीय है कि शुक्रवार को उनका विदाई समारोह आयोजित किया गया। इस दौरान उन्होंने परेड का निरिक्षण कियाआज आयोजित विदाई समारोह में डीजीपी सुलखान सिंह ने अपने पुलिस सेवा के 34 वर्षों के अनुभव के बारे में बताया।

उन्होंने कहा कि यह मेरे लिए गर्व का विषय है कि मुझे यूपी पुलिस का डीजीपी बनने का मौका मिला। उन्होंने उन सभी पुलिस कर्मियों को शुक्रिया कहा जो लोग उनके साथ काम कर चुके हैं। डीजीपी के सम्मान में आयोजित मानक परेड में सुलखान सिंह के साथ एडीजी पीएसी आरके विश्वकर्मा और एडीजी लखनऊ अभय कुमार प्रसाद भी शामिल हुए।

कौन हैं सुलखान सिंह

आपको बता दें कि वर्ष 1980 बैच के सुलखान सिंह को जावीद अहमद की जगह पुलिस महानिदेशक (प्रशिक्षण) के पद पर तैनात किया गया था। बांदा में जन्मे सुलखान सिंह बेहद ईमानदार, सादगी पसंद और बहादुर अधिकारी के रूप में जाने जाते हैं। उन्हें जब भी दायित्व मिला उन्होंने सत्यनिष्ठाको सर्वोपरि रखा। 78 में आईआईटी रुरकी से इंजीनियरिंग की इसके बाद आईपीएस अधिकारी बने।

1983-84 में सुलखान सिंह को बनारस का एडिशनल एसपी बनाया गया। वाराणसी के बाद ही सुलखान सिंह को लखनऊ में बतौर एसपी पहली पोस्टिंग मिली थी। सुलखान सिंह 1997 के दौरान क्रमशः मिर्जापुर और इलाहबाद में डीआईजी भी रहे हैं हांलाकि उनका यह कार्यकाल बेहद छोटा रहा है। इसके बाद अलीगढ़ में एसपी रूरल, एसपी सिटी आगरा, पीएसी कमांडेंट आगरा के एसएसपी रहे।

loading...
शेयर करें