Uttarakhand: बादल फटने से तबाही, मलबे के साथ ITI की इमारत पानी में बहीं

उत्तराखंड के टिहरी जिले के देवप्रयाग में मंगलवार की शाम को बादल फटने से कई दुकाने तबाह हो गई हैं, इसके साथ ही ITI की इमारत भी पानी में ढह गई है

देहरादून: उत्तराखंड (Uttarakhand) में कुदरत अपना कहर बरपा रही है। टिहरी जिले के देवप्रयाग (Devprayag) में मंगलवार की शाम को बादल फटने से कई दुकाने तबाह हो गई हैं। ITI की इमारत भी ढह गई है। बादल फटने से सांता नदी में उफान आ गया है। नदी के पास वाले इलाके में लगभग 12 से 13 दुकानें बह गई है। लोगों की कहना है कि लॉकडाउन के कारण सभी दुकानें बंद थी इसलिए जानमाल का कोई नुकसान नहीं हुआ है।

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत (Tirath Singh Rawat) ने ट्वीट कर बताया कि, देवप्रयाग में बीते मंगलवार को बादल फटने की घटना में बड़े पैमाने पर संपत्ति का नुकसान हुआ है। हालांकि, ईश्वर की कृपा से कोई जनहानि नहीं हुई है।

DGP और SHO का बयान

देवप्रयाग  के SHO, MS रावत  ने बताया कि मंगलवार शाम 5 बजे बादल फटने की सूचना मिली। लगभग 12-13 दुकानें और कई अन्य संपत्तियों को नुकसान पहुंचा है। चूंकि लॉकडाउन के कारण इनमें से अधिकांश दुकानें बंद थीं, इसलिए अभी तक कोई हताहत नहीं हुआ है। यहां जल स्तर बढ़ रहा है, बचाव अभियान चल रहा है।

DGP अशोक कुमार ने कहा कि अभी तक किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। SDRF की टीमें घटनास्थल पर हैं।

सरकार की ओर से सहायता

तीरथ सिंह रावत ने देवप्रयाग में आपदा के मद्देनजर प्रभावित क्षेत्र का स्थलीय निरीक्षण किया है। इस दौरान उन्होंने प्रभावित लोगों से मुलाकात कर उन्हें राज्य सरकार की ओर से हर सम्भव सहायता का भरोसा दिया। साथ ही जिलाधिकारी को प्रभावितों को अनुमन्य सहायता तत्काल उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से नुकसान का आकलन करने और दुकानों को हुए नुकसान की भरपाई की बात भी कही है। इसके साथ ही उन्होंने टूटी पुलिया को बनाने और रास्ता साफ करने को भी कहा है।

यह भी पढ़ेखतरों के खिलाड़ी 11 में Nikki Tamboli ने बिखेरे हुस्न के जलवे, फोटो देख फैंस हैरान

Related Articles