Uttarakhand Glacier Tragedy: ग्लेशियर टूटने से ‘ऋषिगंगा हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट’ तबाह, सारे जगह रेड अलर्ट

उत्तराखंड के चमोली जिले में ग्लेशियर टूटने से एवलांच के बाद ऋषिगंगा हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट (Hydro Power Project) पूरी तरह से तबाह हो चुका है

चमोली: उत्तराखंड के चमोली जिले में ग्लेशियर टूटने से एवलांच के बाद ऋषिगंगा हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट (Rishiganga Hydro Power Project) पूरी तरह से तबाह हो चुका है। इसके साथ ही धौलीगंगा पर बना हाइड्रो प्रोजेक्ट का बांध टूट गया है।एस.एन.प्रधान (NDRF DG) ने कहा कि चमोली (Chamoli) और जोशीमठ के आसपास ग्लेशियर फटने से बांध पर असर हुआ है। ग्लेशियर ऋषिगंगा पर आकर गिरा है, बीआरओ द्वारा जो ब्रिज बनाया जा रहा था उस पर भी असर हुआ है। SDRF और ITBP पहले से जोशीमठ में है। हम NDRF की 3-4 टीमों को रवाना कर रहे हैं।

ITBP के प्रवक्ता ने बताया कि ITBP को सुबह 10 बजे के पास सूचना मिली थी कि ऋषि गंगा के ऊपर अचानक पानी का बहाव बढ़ गया और जोरों की आवाज आई। वहां कुछ मजदूर काम कर रहे थे। हम स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर कार्रवाई कर रहे हैं। हमाने 200 से अधिक जवानों को तैनात किया है। स्थिति नियंत्रण में है।

PM मोदी ने लिया अपडेट

प्रधानमंत्री प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तराखंड ग्लेशियर हादसे पर संवेदना जताते हुए कहा कि मैं उत्तराखंड की दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति पर लगातार निगरानी रख रहा हूं। भारत उत्तराखंड के साथ खड़ा है और राष्ट्र सभी की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करता है। वरिष्ठ अधिकारियों से लगातार बात कर रहा हूं और एनडीआरएफ की तैनाती, बचाव और राहत कार्यों पर अपडेट ले रहा हूं।

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इस हादसे पर बोला कि यह बेहद चौंकाने वाली त्रासदी है। यह एक प्राकृतिक आपदा है। गृह मंत्री ने उत्तराखंड सरकार को हर संभव मदद देने का आश्वासन दिया है।

यह भी पढ़ेयूपी सरकार ने किया फैसला, इन तारीखों से खुलेंगे स्कूल  

जगह रेड अलर्ट

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्लेशियर फटने से वहां बन रहे बांध को क्षति पहुंची है। मानवक्षति के बारे में अभी अधिकृत तौर पर कुछ नहीं कहा जा सकता है। पानी की तीव्रता चमोली तक आते-आते काफी कम हो गई है। गृह सचिव से मेरी बात हो गई है। उत्तराखंड (Uttrakhand) के मुख्य सचिव ने यह बताया कि NDRF रवाना हो चुकी है। ITBP के जवान वहां पहुंच चुके हैं। हमारी SDRF की टीम भी वहा पहुंच चुकी है। सारे जगह रेड अलर्ट (Red Alert) हो चुका है। 100-150 के बीच जनहानि हो सकती है।

यह भी पढ़ेHappy Propose Day: कहने जा रहे हो अपने दिल की बात, तो इसे जरूर पढ़ लो

Related Articles

Back to top button