उत्तराखंड ग्लेशियर त्रासदी: UP हाई अलर्ट, गंगा में बढ़ा उफान

CM योगी कहा कि उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने से भीषण त्रासदी हुई है, अलकनंदा गंगा की सहायक नदी है और उत्तर प्रदेश के अंदर गंगा लगभग 1,000 किलोमीटर का रास्ता तय करती है। हमने अपने जल शक्ति विभाग को अलर्ट कर दिया है

चमोली: उत्तराखंड के चमोली में जोशीमठ के पास तपोवन इलाके में ग्लेशियर टूटने से उसका असर पहाड़ के राज्य में तो हुआ ही है। इसके साथ ही साथ उत्तरप्रदेश में भी हुआ है। जिसके कारण प्रयागराज के गंगा के किनारे बसे हुए इलाकों को हाई अलर्ट किया गया है।

शक्ति विभाग को अलर्ट

CM योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने से भीषण त्रासदी हुई है। पीड़ित परिवारों के प्रति हमारी संवेदना है। अलकनंदा गंगा की सहायक नदी है और उत्तर प्रदेश के अंदर गंगा लगभग 1,000 किलोमीटर का रास्ता तय करती है। हमने अपने जल शक्ति विभाग को अलर्ट कर दिया है।

सुरंग के अंदर फंसे लोग

DG NDRF के एस.एन. प्रधान ने बताया कि अभी हमारा पूरा ध्यान 2.5 किलोमीटर लंबी सुरंग के अंदर फंसे हुए लोगों को बचाने पर है। सभी टीमें उसी काम में लगी हुई हैं। सुरंग में 1 किलोमीटर से ज्यादा तक की मिट्टी को हटा दिया गया है। जल्द ही हम उस स्थान तक पहुंच जाएंगे जहां पर लोग जीवित हैं।

यह भी पढ़ेवो 4 दावेदार जिनके सिर सज सकता है BIGG BOSS 14 का ताज!

चमोली की जिलाधिकारी स्वाति भदौरिया ने कहा कि पुल टूटने से जो 13 गांव अलग हो गए हैं उनके लिए बचाव कार्य शुरू कर दिया गया है और उन्हें राहत सामग्री पहुंचाई जा रही है। हमारी मेडिकल टीमें भी पहुंच गई हैं। जो लोग अलग-अलग पहाड़ों पर फंसे हुए हैं उनके लिए भी बचाव कार्य चल रहा है।

चमोली जिले के तपोवन में टनल में राहत और बचाव कार्य अभी चल रहा है। आईटीबीपी के जवान बचाव कार्य में स्निफर डॉग (Sniffer Dog) की मदद ले रहे हैं। ADG मनोज रावत ने बताया कि ग्लेशियर टूटने से हुए नुकसान को हम अब कम करने का प्रयास कर रहे हैं। बहुत सारे लोग इसमें लापता हुए हैं। NTPC डैम में काम कर रहे लोग लापता हुए हैं और डैम को भारी नुकसान हुआ है।

यह भी पढ़ेValentine 2021 : जानिए क्यों मनाया जाता है Chocolate Day

Related Articles

Back to top button