Uttarakhand: नैनीताल/मसूरी में पर्यटकों की भीड़, नाराज HC ने सरकार से मांगा जवाब

कोरोना पाबंदियों पर छूट मिलते ही नैनीताल, मसूरी में हो रही भीड़ पर नैनीताल हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की खंडपीठ ने सख्ती दिखाई है

देहरादून: कोरोना वायरस की दूसरी वेव की रफ्तार धीमी पड़ चुकी है। जिसके बाद राज्य में लगे पाबंदियों पर सरकार ने ढील दे दी है। और तब से ही पर्यटन स्थल में पर्यटकों की भीड़ बढ़ने लगी है। ज्यादातर लोग हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) और उत्तराखंड (Uttarakhand) में छुट्टीयां मनाने जा रहे हैं। लेकिन उत्तराखंड के नैनीताल और मसूरी में इन दिनों सैलानियों की भीड़ कुछ ज्यादा ही बढ़ने लगी है। जिसे लेकर नैनीताल (Nainital) हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की खंडपीठ ने सख्ती दिखाई है।

जानिए पूरा मामला

दरअसल कोरोना पाबंदियों पर छूट मिलते ही नैनीताल, मसूरी में हो रही भीड़ पर नैनीताल हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की खंडपीठ ने सख्त रुख अपनाते हुए राज्य सरकार को कोर्ट में अपना जवाब पेश करने के आदेश दिए हैं।

इस साथ ही चार धाम यात्रा (Char Dham Yatra) और हरिद्वार कुंभ (Haridwar Kumbh) में भी अनियमितताओं को लेकर दायर जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की खंडपीठ ने राज्य सरकार को ये निर्देश दिए हैं।

नैनीताल का मुख्‍य आकर्षण

नैनीताल का मुख्‍य आकर्षण यहां की नैनी झील है। स्‍कंद पुराण में इसे त्रिऋषि सरोवर कहा गया है। कहा जाता है कि जब अत्री, पुलस्‍त्‍य और पुलह ऋषि को नैनीताल में कहीं पानी नहीं मिला तो उन्‍होंने एक गड्ढा खोदा और मानसरोवर झील (Mansarovar Lake) से पानी लाकर उसमें भरा। इस झील के बारे में कहा जाता है यहां डुबकी लगाने से उतना ही पुण्‍य मिलता है जितना मानसरोवर नदी से मिलता है। यह झील 64 शक्ति पीठों में से एक है। जिसकी खूबसूरती को देखने के लिए पर्यटक अपने आप ही यहां खींचे चले आते हैं।

10 नैनीताल दर्शनीय स्थल जहाँ आप प्रकृति का भरपूर लुत्फ उठा सकते हैं

 

 

यह भी पढ़ेअभिनेता Dilip Kumar के निधन पर देश शोकमग्न, राष्ट्रपति कोविंद समेत दिग्गजों ने जताया दुख

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles