Uttarakhand Tragedy: झारखंड सरकार ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर, लापता नागरिक ले सकेंगे मदद

झारखंड सरकार ने झारखंड के लोगों के लिए एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया जो चमोली(उत्तराखंड) में फंसे हुए हैं, लापता नागरिक ले सकेंगे मदद

झारखंड: झारखंड सरकार (Government of Jharkhand) ने झारखंड के लोगों के लिए एक हेल्पलाइन नंबर (Helpline Number)  जारी किया जो चमोली(उत्तराखंड) में फंसे हुए हैं। झारखंड सरकार ने कहा है कि उत्तराखंड के चमोली ग्लेशियर आपदा से न घबराएं अपनी समस्या का साझा करें, सुरक्षित रहें।

झारखंड सरकार का बयान

झारखंड सरकार ने कहा कि झारखंड के श्रमिक, छात्र-छात्राओं एंव अन्य नागरिकों को उत्तराखंड के चमोली ग्लेशियर आपदा समस्या होने पर श्रम विभाग स्टेट कंट्रोल रूम के दिए गए इन नंबरों पर कॉल कर समस्या बताएं-

कंट्रोल रूम हेल्पलाइन नंबर

 

0651-2490055

 

0651-2490058

 

0651-2490083

 

0651-2490052

 

0651-2490037

 

0651-2490125

 

WhataApp नंबर हेल्पलाइन नंबर

 

WhataApp नंबर

 

9470132591

 

9431336427

 

9431336398

 

9431336472
9431336432

अन्य समस्याओं को उपर्युक्त दिए गए नंबर पर संदेश (Message) के माध्यम से अपना डिटेल भेज कर सहयोग प्राप्त कर सकते हैं।

झारखंड सरकार हेल्पलाइन नंबर

यह भी पढ़े : बसंत पंचमी 2021 Date: शुभ कार्यों के लिए खास है बसंत पंचमी 

लखीमपुर खीरी के आपदा में फंसे लोग

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के लखीमपुर खीरी के 30 लोग उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूटने के बाद से लापता हो गए है। जिलाधिकारी शेलेंद्र सिंह ने बताया, हम गांव बाबूपुरवा में है। हमें 20 लोगों के नाम की सूची मिल गई है। इनसे संपर्क नहीं हो पा रहा। सूची को उत्तराखंड सरकार के साथ साझा कर रहे हैं।

उत्तराखंड अधिकारियों को निर्देश

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अधिकारियों के साथ जोशीमठ में आई आपदा में राहत और बचाव कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि क्षेत्र में खाद्य सामग्री पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि क्षेत्र में खाद्य सामग्री पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो। राहत एवं बचाव कार्यों के लिए एसडीआरएफ मद से 20 करोड़ रुपये की धनराशि जारी की गई है।

उत्तराखंड त्रासदी पर केंद्रीय मंत्री का बयान

केंद्रीय मंत्री आर.के. सिंह ने उत्तराखंड त्रासदी पर कहा कि इस वक्त हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती सुरंग में फंसे करीब 34 लोगों को बचाना हैं। अभी हम सुरंग के अंदर 70 मीटर तक गए हैं और  करीब 180 मीटर तक और जाना है। किस तरह से हम सुरंग से मलवा निकाले इसके लिए पदाधिकारियों के साथ बातचीत की गई है।

यह भी पढ़ेPM मोदी ने सरकार की आलोचना करने वालों को दिया करारा जवाब

Related Articles

Back to top button