सेंट्रल जेल के सामने आत्मदाह की कोशिश, नौ जिम्मेदार निलम्बित

Allahabad jail

इलाहाबाद। नैनी सेंट्रल जेल जिसमें की देश के कई आंतवादियों को कैद कर रखा गया है। इसके बावजूद समय-समय पर जेल अधिकारियों की लापरवाही का मामला सामने आता रहता है। हर बार कार्रवाई भी की जाती है लेकिन इसका कोई फर्क नजर नहीं आता। कई बार तो ऐसा भी होता है की खामी का खुलासा भी नहीं होने दिया जाता है। अभी कुछ दिन पहले अवैध निर्माण को लेकर नैनी सेंट्रल जेल चर्चा का विषय बना था।

सुरक्षा में खामी, परेशान कैदी ने की जान देने की कोशिश
नैनी सेंट्रल जेल के प्रवेश द्वार पर एक बड़ी घटना होने से बच गई। कचहरी से पेशी से लौटे एक बंदी ने मिट्टी का तेल छिडक़कर खुद को जिंदा जलाने का प्रयास किया। इससे पहले कि वह इस घटना को अंजाम दे पाता पुलिसकर्मियों ने उसे दबोच लिया। घटना की जानकारी मिलते ही जेल प्रशासन में हडक़ंप मच गया। तत्काल बंदी को जेल के अंदर ले जाया गया। साथ ही नैनी कोतवाली को इसकी सूचना दी गई। मामला एसएसपी के संज्ञान में आया तो एक दारोगा, एक एचसीपी और सात सिपाहियों को निलंबित कर दिया गया। सीओ करछना को मामले की जांच सौंप दी गई है।

दहेज और हत्या के मामले में है कैद
जिले के यमुना पार स्थित कोरांव निवासी रमाकांत पुत्र इंद्रजीत को दहेज एवं हत्या के आरोप में नैनी जेल में बंद रखा गया है। जेल से निकाल कचहरी पेशी में ले जाया गया था। देर शाम को प्रिजन वैन से पुलिस अभिरक्षा में वह जेल पहुंचा। जेल के गेट पर पेशी में गए बंदियों की कतार लगी थी। तलाशी लेकर बंदियों को अंदर दाखिल किया जा रहा था। इसी बीच बंदी रमाकांत ने अपने झोले में रखे मिट्टी के तेल की बोतल निकाली और पूरा तेल अपने ऊपर छिडक़ लिया। वह माचिस जला पाता, इससे पहले सिपाहियों की नजर उस पर पड़ गई और सिपाहियों ने उसे पकड़ लिया गया। कैदी तेल डालने के बाद यहीं चिल्ला रहा था कि मुझे नाहक परेशान किया जा रहा है।इस मामले में जेल अधिकारियों का कहना है कि घटना की सूचना नैनी पुलिस को दे दी गई है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button