वीडियो वायरल : आख़िरी वक्त में भी नहीं टूटा औरंगजेब, बहादुरी से दिया आतंकियों को जवाब

नई दिल्ली। ईद मनाने घर जा रहे भारतीय सेना के एक जाबांज जवान की अपहरण के बाद बड़ी ही निर्ममता से ह्त्या कर दी गई। पुलिस को उसका शव क्षत-विक्षत अवस्था में मिला। ताजा मामले में उसकी मौत से पहले का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियों में आतंकी संगठन जैश के नुमाइंदों ने जवान को बंधक बनाया हुआ है। जवान औरंगजेब से आतंकी पूछताछ करते हुए नज़र आ रहे हैं। इतना ही नहीं इस वीडियों में किसी एंकाउन्टर का भी जिक्र किया गया। बता दें ये वीडियो आतंकी संगठन द्वारा ही जारी किया गया है।

जालंधर में 106वां भारतीय विज्ञान कांग्रेस, पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन

भारतीय सेना

खबरों के मुताबिक़ आतंकियों ने जवान से सबसे पहले उसका नाम और पता पूछा। औरंगजेब ने अपना नाम और पता जैसे ही बताया आतंकियों ने कहा तुम्हारी ड्यूटी कहा है और तुम शुक्ला के साथ रहते हो न?

औरंगजेब ने बिना किसी डर के जवाब दिया शादीपोरा, पुलवामा में मेरी ड्यूटी है और हां मेजर रोहित शुक्ला के साथ रहता हूं।

आतंकियों ने उससे पूछा कि तुम क्या ड्यूटी करते हो? औरंगजेब ने बताया कि पोस्ट पर सिपाही हूं। आतंकियों ने पूछा कि तुम शुक्ला के गार्ड भी हो? औरंगजेब ने हां में जवाब दिया। आतंकियों ने कहा कि उसके साथ हर ऑपरेशन में तुम जाते हो न?

ईद मनाने घर जा रहे जवान का अपहरण कर आतंकियों ने…

औरंगजेब ने कहा कि हां जाता हूं। आतंकियों ने पूछा कि मो। वसीम, तलहा लोगों का एनकाउंटर तुमने ही किया था न? जवान ने बिना डरे कहा हां मैंने ही किया था।

किसी अन्य एनकाउंटर का वीडियो में जिक्र किया गया है, जिसके जवाब में औरंगजेब ने कहा कि उस बार मेरा हाथ टूट गया था इसलिए मैं नहीं जा पाया था।

बता दें राष्ट्रीय रायफल्स में तैनात औरंगजेब का शव गुसू से बरामद किया गया। राजौरी जिले की ओर जाते हुए आतंकवादियों ने औरंगजेब के वाहन को कालामपोरा क्षेत्र में रोक लिया और उसका अपहरण कर लिया। जवान पुंछ जिले का रहने वाला था।

स्थानीय पुलिस ने बताया कि अपहृत सैनिक का गोलियों से छलनी शव दक्षिण कश्मीर के पुलवामा के गुसू में मिला। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

इंसानियत हुई शर्मसार, 3 दलित नाबालिग लड़कों को निर्वस्त्र कर पूरे…

औरंगजेब के अपहरण की जानकारी मिलते ही सेना ने उसे बचाने के लिए बड़ा अभियान चलाया था लेकिन उसे बचाने में कामयाब नहीं हुयी।

आतंकवादियों ने यह अपहरण ऐसे समय में किया है जब केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह गुरुवार को जम्मू एवं कश्मीर में लागू रमजान संघर्षविराम के विस्तार पर चर्चा कर रहे हैं। यह संघर्ष विराम शुक्रवार को समाप्त होने वाला है।

इस मामले में और जानकारी देते हुए अधिकारियों ने बताया था कि जवान ईद के मौके पर छुट्टियों में घर जा रहा था। इस दौरान पुलवामा जिले के कलामपुरा इलाके से उसका अपहरण कर लिया गया था। मृतक जवान 4 जम्मू कश्मीर लाइट इनफैंट्री में था और वर्तमान में वह शोपियां के शादीमार्ग में 44 राष्ट्रीय राइफल्स शिवर में तैनात था।

Related Articles