पिनराई ने की घोषणा, भाकपा पर लगे जमीन सौदे के आरोपों की होगी सतर्कता जांच

तिरुवनंतपुरम| मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने मंगलवार को एक जमीन सौदे की सतर्कता जांच की घोषणा की। इस सौदे में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) की वयनाड जिला इकाई कथित रूप से शामिल कही जा रही है। एक टीवी चैनल के स्टिंग में कथित रूप से भाकपा और भू-माफिया की मिलीभगत को दिखाने के बाद इस जांच की घोषणा की गई। मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) और भाकपा सत्तारूढ़ वाम सरकार में प्रमुख घटक दल हैं।

भाकपा

पिनाराई विजयन ने राज्य विधानसभा को बताया कि यह सरकार भ्रष्टाचार को किसी तरीके से बर्दाश्त नहीं करेगी। इस खास मामले में सरकार ने कुछ गलत नहीं किया है। उन्होंने कहा कि प्रसारित दृश्यों में एक सरकारी अधिकारी को अपने कर्तव्य से हटने वाला दिखाया गया और राजस्व मंत्री ने पहले ही उठाए गए कदमों की जानकारी दे दी है। हम अब इस मामले में सतर्कता जांच की घोषणा कर रहे हैं। राजस्व मंत्री ई. चंद्रशेखरन, भाकपा के नेता हैं।

इस स्टिंग में खुलासा किया गया है कि एशियानेट टीवी चैनल की टीम एक व्यापारियों का समूह बनकर रिजॉर्ट बनाने के लिए जिले में एक जमीन के टुकड़े की तलाश में है। टीम पहले एक रियल एस्टेट ब्रोकर कुंजू मोहम्मद से मिलती है, जो उन्हें वयनाड के डिप्टी कलेक्टर टी. सोमनाथन और भाकपा के कुछ जिलास्तरीय नेताओं से मिलवाता है। इन नेताओं में वयनाड इकाई के सचिव विजयन चेरुकारा शामिल थे। स्टिंग में दिखाया गया है कि कैसे कुंजू, सोमनाथन और चेरुकारा सरकारी जमीन हड़पने के लिए मिलकर प्रयास करते हैं।

कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक वीडी सतीशन ने कहा कि स्टिंग में वही दिखाया गया जो हम फिल्मों में देखते हैं। कैसे अधिकारी रिश्वत देने वालों का समर्थन करते हुए जमीन के रिकॉर्डो में हेराफेरी करते हैं।

चंद्रशेखरन ने हालांकि सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि जब से उन्होंने मंत्री पद संभाला है, सरकार ने विभिन्न लोगों द्वारा सरकारी जमीन पर कब्जा करने के प्रयास के खिलाफ 602 मामले दर्ज किए हैं। वहीं विपक्ष के नेता रमेश चेन्नीथला ने कहा कि मंत्री मुद्दे को महत्वहीन बनाने का प्रयास कर रहे हैं।

Related Articles