फरीदाबाद के गेस्ट हाउस में दिखा विकास दुबे, पुलिस ने मारी छापेमारी पहले हो गया फरार

यूपी: कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या का आरोपित हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे फरीदाबाद पुलिस की गिरफ्त में आते-आते बच गया। बताया जा रहा है कि छापेमारी से पहले ही वह गेस्ट हाउस से पैदल ही भाग निकला। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि क्या विकास दुबे को छापेमारी की सूचना मिल गई थी, जो वह बेहद शातिराना अंदाज में भाग निकला। बताया जा रहा है कि फरीदाबाद क्राइम ब्रांच को मुखबिर से सूचना मिली थी कि विकास दुबे यहां बड़खल चौक स्थित एक गेस्ट हाउस में छिपा है। इसी आधार पर मंगलवार रात को फरीदाबाद की क्राइम ब्रांच टीमों ने होटल पर छापेमारी की। हथियारों से लैस पुलिस टीम ने होटल को चारों तरफ से घेर लिया।प्रत्यक्षदर्शियों ने वहां फायरिंग की बात कही है, लेकिन पुलिस ने इससे इनकार किया है। पुलिस टीम ने होटल के एक-एक कमरे की बारीकी से तलाशी ली, लेकिन विकास दुबे वहां नहीं मिला। बताया जा रहा है कि हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे गेस्ट हाउस में छापेमारी से पहले ही चुपचाप पैदल ही वहां से निकल गया। अब सीसीटीवी फुटेज से इसकी सच्चाई सामने आ सकती है कि वास्तव में वह गेस्ट हाउस में छिपा था। वहीं, सूत्रों के हवाले से यह खबर भी आ रही है कि हरियाणा क्राइम ब्रांच की छापेमारी में विकास दुबे पकड़ा गया है। दोपहर 3 बजे के आसपास पत्रकार वार्ता में अहम खुलासे कर सकती है।

विकास का एक खास गुर्गा पुलिस के हत्थे लग गया। सूत्रों का कहना है कि उस गुर्गे ने ही पुलिस को विकास दुबे की कुछ घंटे पहले होटल में मौजूद होने की पुष्टि की। बताया कि छापेमारी से काफी देर पहले विकास यहां से पैदल निकल गया था। यह जानकारी मिलते ही पुलिस सक्रिय हो गई। होटल की सीसीटीवी फुटेज कब्जे में ली गई। इसमें एक शख्स डीलडौल विकास दुबे से मिलता जुलता है। पुलिस ने यह फोटो आसपास के जिलों व राज्यों की पुलिस को भेज दिए हैं।

बताया जा रहा है कि मंगलवार को गुरुग्राम पुलिस आयुक्त केके राव का संदेश भी वाट्सएप पर वायरल हुआ था, जिसमें वे अपने जिले के पुलिसकर्मियों को सतर्क करते सुने जा सकते हैं। इस संदेश में वह फरीदाबाद के होटल में विकास दुबे की मौजूदगी की पुष्टि की थी। मामला बहुचर्चित और संवेदनशील होने के कारण फरीदाबाद के पुलिस अधिकारी अभी किसी भी तथ्य की पुष्टि नहीं कर रहे हैं।

Related Articles