विवादों में रही विनोद मेहरा की निजी जिंदगी, एक्टर ने की थी तीन शादियां

अपनी एक्टिंग से लाखों लोगों को दीवाना बनाने वाले बॉलीवुड एक्टर विनोद मेहरा की आज 75वीं जयंती है। उन्होने बेहद ही कम उम्र में दुनिया से अलविदा कह दिया था। 13 फरवरी 1945 को अमृतसर जन्मे विनोद मेहरा की जिंदगी में काफी उतार-चढ़ाव रहे।

उनकी जिंदगी काफी उतार-चढ़ाव भरी रही। वैसे विनोद ने 13 साल की उम्र में फिल्‍म रागिनी (1958) बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर काम करना शुरु कर दिया था। बाद में 1971 में फिल्‍म एक थी रीता में वह लीड एक्‍टर के रूप में नजर आए। इस फिल्‍म में उनके अपोजिट अभिनेत्री तनुजा थीं।

विनोद मेहरा ने तीन शादियां की थीं। उनकी पहली पत्‍नी थी Meena Broca। जब विनोद ठीक हुए तो उन्‍होंने अभिनेत्री बिंदिया गोस्‍वामी से शादी की। हालांकि विनोद ने मीना को तलाक नहीं दिया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस दौरान जब विनोद मेहरा अकेले हुए तो उनकी नजदीकियां रेखा से हुईं। इस दौरान उनकी शादी की भी रिपोर्ट्स आईं। हालांकि रेखा ने 2004 में सिमी ग्रेवाल के टॉक शो में विनोद मेहरा के साथ शादी की बात से इंकार किया। पत्रकार यासीर उस्‍मान की किताब ‘रेखाः द अनटोल्ड स्टोरी’ में एक घटना का जिक्र है।

लीड एक्टर के तौर पर विनोद मेहरा की पहली फिल्म ‘एक थी रीता’ थी। विनोद ने अपने करियर में लाल पत्थर (1972), अनुराग (1972), सबसे बड़ा रुपैया (1976), नागिन (1976), अनुरोध (1977), साजन बिना सुहागन (1978), घर (1978), दादा (1979), कर्तव्य (1979), अमर दीप (1979), जानी दुश्र्मन (1979), बिन फेरे हम तेरे (1979), द बर्निंग ट्रेन (1980), टक्कर (1980), ज्योति बने ज्वाला (1980), प्यारा दुश्र्मन (1980), ज्वालामुखी (1980), साजन की सहेली (1981), बेमिसाल (1982), स्वीकार किया मैंने (1983) लॉकेट (1986, प्यार की जीत (1987) जैसी फिल्में की हैं।

Related Articles